| |

मेरी बीबी मेरे सामने अपने यार और उसके दोस्त से चुंदी Part-1

लेखक ने अपनी कहानी के जरिए ये बताया की कैसे उसकी बीवी उसका चूतिया काट कर अपने यार के साथ चुदाई मचा रही थी। यहाँ तक की उसने अपने यार के दोस्त के साथ भी बिस्तर पर रात बीता दी। ऐसी अश्लील और गन्दी बीवी से प्यार करने वाला लेखक कुछ नहीं कर पाया। इस Risto Me Chudai Ki Kahani को पूरा पड़े और कमेंट जरूर करे।


कैसे हो आप सब भाई बहन सभी को प्यार भरा नमस्कार आपके लिए फिर से गर्मा गर्म कहानी का पहला भाग पेश करने जा रहा हूबिनिता मेरी बीबी जो मुझे चुतिया बनाकर मेरे पिछे रंगरलिया बना रही थी एक दिन मेने उसे उसके यार के साथ रंगे हाथो पकडा तो उसने मुझे जलील करने के लिए अपने यार ओर उसके दोस्त के साथ मिलकर चुदाई का प्लान बनाया ओर फिर उसने मेरे सामने अपने यार ओर उसके दोस्त से मिलकर चुदाई करवायी

एक दिन मेरा सरदर्द कर रहा था तो मै आफिस से जल्दी ही घर लोट आया बिना फोन कीये घर पहुंचा तो घर के आगे एक पल्सर बाइक खडी थी ओर घर अंदर से लोक था मेने दरवाजा बजाया तो पांच मिनट के बाद मेरी पत्नी बाहर आयी ओर मुझे देखकर चोक गयी दरवाजा खोलते ही मै अंदर चला गया ओर मेरी बीबी का यार मेरे बिस्तर पर अपने कपडे पहन रहा था ये देखकर मुझे गुस्सा आ गया ओर मेने उसको दो थप्पड मारे तो बदले मे उसने भी मुझे तीन चार थप्पड जड दिये इतने मे मेरी बीबी आ गयी ओर कहने ये उसका ब्यायफ्रेड है चोर नही मारने की कोई जरूरत नही इसको ये सुनकर मुझे बहुत बुरा लगा मगर मे कर भी क्या सकता था

वो घर से चला गया ओर फिर हम दोनो मे बहुत देर बहसबाजी हुई तो मेने बिनिता को एक थप्पड लगा दिया जिससे वो भडक कर दूसरे कमरे मे चली गयी ओर दरवाजा अंदर से लोक लगाकर बैठ गयी मै बाजार जाकर शराब ले आया ओर पीकर सो गया मुझे नही पता उसने कुछ खाया की नही मगर मै शराब पीकर सो गया अगले दिन मे उठा ओर काम पर चला गया सुबह खाना बाहर खाया ओर रात को फिर से शराब इस तरह से दस दिन यही सिलसिला चला उधर मेरे जाने के बाद मेरे से बदला लेने के लिए मेरी बीबी अपने यार असलम के साथ प्लान करने मे लगी थी

आखिरकार मेरी जिंदगी का सबसे बुरा दिन आ ही गया उस दिन भी मे शाम को शराब पीकर घर पहुंचा तो घर का दरवाजा खुला था ओर अंदर से मुझे दो तीन लोगो के हंसने की आवाजे आ रही थी ये सुनकर मेरी आधी शराब तो उतर ही गयी फिर सोचा कोई मेहमान होगा मगर अंदर जाते ही मेरे तो होश ही उड गये मेरी बीबी अपने यार की गोद मे बैठी थी ओर उसके साथ उसका दोस्त भी था

मेरे अंदर जाते ही मेरी बीबी बोली लो आ गया बेवडा तो उसके यार ने कहा जान ये गांडू है बेवडा तो अब बना है ये सुनकर मेरा खून खोला ओर मै उसपर झपटा तो उसके दोस्त ने मुझे पिछे से पकड लिया ओर उसके यार ने खडे होकर मुझे दो थप्पड मार दिये मेरी बीबी खडी होकर रस्सी ले आयी ओर तीनो ने मिलकर मेरे हाथ पैर बांधकर मुझे कमरे मे रखी कुर्सी पर बैठाकर कुर्सी पर मुझे रस्सी बांध दीया

अब बिनिता ने अपने आशिक से कहा जान तुम रूको मै तैयार होकर आती हू आज इसको दिखाओ मर्द क्या होता है ये बोलकर वो दूसरे कमरे मे चली गयी ओर वो कुछ देर बाद तैयार होकर बाहर निकली कसम से वो कीसी हिरोइन से कम नही लग रही थी लाल लिपस्टिक लंबे काले बाल काली आंखे काजल लगी हुई कानो मे झुमके नाभी से नीचे की साडी ओर लो कट ब्लाउज से बाहर निकलते उसके उरोज क्या कहना मै बैठा बैठा अपनी बीबी की गैर मर्द से चुदाई देखने जा रहा था

मेरी हालात बहुत खराब हो रही थी मगर बिनिता ओर उसका प्रेमी मुझे जलील करना चाहते थे क्योकी मे भी इसी लायक ही हू दोस्तोअब जरा मे बिनिता के आशिक के बारे मे बता दू आपको उसका नाम असलम 6 फीट का बॉडी बिल्डर ओर उसका दोस्त आसिफ भी 6 फीट लंबा ओर बोडी बिल्डर थाबिनिता के अंदर आते ही बिनिता ने मुझ से कहा देख बेवडे चुदाई ऐसे होती होती है आज घ्यान से देखना मेरी बंद आंखो से आंसू निकल रहे थे मै लाचार था बिनिता ने कहा बेवडे एक बाप की ओलाद है तो अपनी आंखो को खोलकर देख बंद करने से हम रूकने वाले नही आंखे खोलकर देख ध्यान से तो मैने ना चाहते हुए अपनी आंखे खोल ली

मेरी आंख खुलते ही बिनिता असलम की बाहो मे समा गयी ओर फिर असलम ने गर्दन झुकाकर उसके होठो पर अपने होठो को लगाया तो बिनिता ने भी अपने पैर उठाकर उसके होठो से अपने होठ मिला दिये आसिफ अभी आराम से बैठा देख रहा था असलम ओर बिनिता एक दूसरे को ऐसे कीस कर रहे थे जैसे वो जन्म जन्म के बिछड़े हुए हो असलम ओर बिनिता ने दस मिनट तक कीस कीया ओर फिर बिनिता ने मेरी तरफ देखकर आंख मारी तभी असलम ने बिनिता की साडी पकडकर उसे खिचने लगा ओर बिनिता गोल गोल घुमकर अपनी साडी घुलवाने लगी साडी घुलते ही बिनिता एकबार फिर असलम की बाहो मे समा गयी ओर असलम उसकी गर्दन कान ओर गालो को चुमने लगा तो सबिता की सिसकारीया जोर से निकलने लगी बिनिता की चुदास भडकने लगी तो सबिता ने कहा असलम क्या आसिफ सिर्फ देखने ही आया है तो असलम ने आसिफ से कहा भाईजान आ जाओ मेरी जान के हुस्न का दिदार तो पहले भी कर चुके हो आज इस हसीना के रस ओर उसकी जवानी को चख भी लो इतना सुनते ही आसिफ ने कहा भाईजान हमारा लंड तो पेन्ट मे फटने को तैयार हो रहा है कब से आपके कहने का इंतजार था बस ओर आसिफ अब बिनिता के पिछे आकर चिपक गया ओर उसका मोटा लंड बिनिता की गांड मे चुभने लगा बिनिता भी अपनी गांड का दवाब आसिफ के लंड पर बनाने लगी आसिफ के हाथ बिनिता की चुचियो पर पहुंच गये ओर आसिफ बिनिता की चुचियो को बेदर्दी से दबाने लगा ओर बिनिता आह आह सी सी सी हाय हाय कहकर उन्हे चुदाई का निमंत्रण देने लगी वो बिलकुल भी जल्दी मे नही तो वो दोनो बिनिता के बदन को मसलने मे लगे रहे तभी असलम ने बिनिता के ब्लाउज को खींचकर फाड दिया तो बिनिता बोली जान आराम से बिनिता का ब्लाउज खुलते ही आसिफ ने पेटीकोट का नाडा खोल दिया अब बिनिता ब्रा पेंटी मै दो लडको के बीच खडी थी ओर मै बैठा बैठा देख रहा था मेरी आंखो मे से आंसू निकल रहे थे तो बिनिता देखकर मुस्कारा रही थी

आसिफ ने बिनिता की काले रंग की ब्रा के हुक खोल दिये तो असलम ने बिनिता की पेंटी को नीचे खिसकाकर उसे नंगा कर दिया बिनिता की टाइट चुचियो को अपने भारी हाथो से असलम मसलने लगा तो आसिफ बिनिता की गांड को दबाने लगा असलम बिनिता की चुचियो को मुह मे भरकर चुसने लगा तो आसिफ नीचे बैठकर बिनिता की गांड ओर चुत को चाटने लगा बिनिता की आहे कमरे मे गुजने लगी तो मेरे कान उन आहो से फटने लगे बिनिता की गीली पेंटी उठाकर आसिफ ने मेरे मुह पर फेक दी जिसकी खुशबु से मेरे बदन मे एक हलचल सी उठ गयी ओर मेरा लंड भी अब खडा होने लगा बिनिता ने असलम की टीशर्ट उतार फेकी तो आसिफ ने भी अपनी टीशर्ट उतार फैकी दोनो ने जिम जाकर अपनी बोडी बना रखी थी

तो मै ओसत दर्ज की बोडी वाला था बनिता अपने हाथो से अब असलम ओर आसिफ के खडे लंड को पेन्ट के उपर से सहला रही थी उनके बडे लंड का अंदाजा मुझे उनकी पेन्ट के उभार से पता लग रहा था तभी बिनिता ने असलम की पेन्ट का बटन खोल दिया ओर उसको नीचे खिसकाने लगी तो असलम ओर आसिफ ने खुद ही अपनी पेन्ट ओर कच्छे खोल दीये तो उनके मूसल से बडे लंड जो मेरे लंड से दुगने बडे लग रहे थे मेरी नजरो के सामने थे ऐसे लंड मेने विडियो मे ही देखे थे बिनिता अब नीचे बैठ गयी तो असलम ओर आसिफ उसके सामने खडे हो गये बिनिता दोनो के लंड ओर गोटे चाटकर उनके लंड मुह मे देकर चुसने लगी बिनिता को देखकर लग रहा था जैसे कीसी कोठे से कोई रंडी किराये पर देकर आए है वो बिनिता के एक हाथ मे लंड तो दूसरा मुह मे असलम ने सबिता के सिर को दबाकर उसके मुह मे लंड फंसाया तो बिनिता की आंखे बाहर निकाल आयी ओर मुह से गो गो की आवाजो से कमरा भर गया मगर बिनिता चाहकर भी पूरा लंड नही ले पाई दोनो के लंड 7​ इच लंबे​ ओर 3​ इच मोटे थे बिनिता के गले तक लंड फसने के बाद भी 2​ इच लंड बाहर रह रहा था

बिनिता ने दोनो के लंड को अपने थूक से गीला कर दिया तो चुसाई से उसकी चुत भी लगातर बह रही थी तभी असलम बेड पर लेट गया तो बिनिता भी दोनो पैर फैलाकर असलम के लंड को अपनी चुत मे फंसाकर दो तीन बार मे ही अपनी फटी चुत मे समा लिया ओर असलम के लंड पर कूदने लगी तभी असलम ने कहा बिनिता मेरे से चिपक जाओ तो मै समझ गया अब बिनिता की गांड भी फटने वाली है ओर बिनिता असलम से चिपक गयी तो आसिफ पिछे आकर गांड को फैलाने लगा बनिता की गांड अभी तक ठीक ठाक थी मगर अब नही आसिफ ने अपने लंड के टोपे पर ढेर सारा थूक लगाया ओर कुछ थूक बनिता की गांड पर थूका असलम ओर बिनिता आसिफ का इंतजार कर रहे थे तभी आसिफ ने अपने काले मूसल लंड का लाल टोपा बिनिता की गांड मे उतार दिया बनिता कसमसाने लगी तो असलम ने उसकी कमर को अपने दोनो हाथो से जकड लिया ओर तभी आसिफ ने दूसरे झटके मे आधा लंड उतार दिया बिनिता दर्द से तडफडाने लगी बिन जल की मछली की तरह मगर असलम ओर आसिफ की पकड का कोई इलाज नही था बिनिता के पास बिनिता की चीख निकलते ही असलम ने उसके होठो को अपने होठो मे जकड लिया तो उसकी चीख भी दबकर रह गयी मगर बनिता की आंखे आजाद थी जो उसकी गांड के फटने का इजहार कर रही थी बनिता संभल पाती उससे पहले ही आसिफ ने तीसरा झटका लगा दिया ओर बिनिता की गांड को फाडता हुआ उसका मुसल लंड बनिता की गांड की गहराई मे समा गया बिनिता अपने पैर बैड पर पटकने लगी मगर उसका कोई फायदा नही हुआ उल्टा दर्द ज्यादा ही हुआ उसे दो मिनट तक बिना हिले असलम ओर आसिफ ने बिनिता को दबाकर रखा दो मिनट के बाद उसने पैर पटकने बंद कीये तो आसिफ ने पूरा लंड बाहर निकाल लिया ओर असलम ने उसके होठो को आजाद कर दिया आसिफ के लंड पर बनिता की गांड फटने की निशानी आसिफ के लंड पर बिनिता की गांड का लगा खून दे रहा था तभी बनिता बोली मेरी गांड भी फाड ही दी आखिरकार तुमने तो असलम ने कहा जान मेने नही आसिफ ने फाडी तो बनिता बोली फाड तो दी ना तभी आसिफ ने गांड को फैलाकर सुपारा गांड मे फंसाया ओर एक झटके मे पूरा लंड बिनिता की गांड मे उतार दिया बिनिता की चीख पूरे कमरे मे गुज उठी बाहर निकाल आसिफ मै मर जाऊगी हाय मेरी गांड फट गयी आसिफ प्लीज बाहर निकालो बहुत दर्द हो रहा है एकबार बाहर निकाल तभी असलम ने अपनी गांड उठाकर बनिता की चुत को पेलना शुरू कर दिया तो आसिफ ने भी बिना रहम कीये ताबततोड झटको से गांड को फाडने लगा बनिता की गीली चुत से फचफच तो गांड फटफट की आवाजे निकलने लगी ओर बनिता को तो पापा मम्मी याद आ गये बिनिता पापा बचाओ मुझे मा कहा हो तुम कहकर चीखने लगी कुछ देर बाद मूसल लंडो ने अपनी जगह बना ली तो बनिता की आवाजे बदल गयी ओर बनिता आह आह आह आह हाय हाय हायसी सी सी सीउई मा मर गयीकहकर चुदने लगी बिनिता की दमदार चुदाई से बिनिता की चुत का झरना दस मिनट मे ही फुट पडा तो असलम का लंड अब आराम से बिनिता की चुत के अंदर बाहर होने लगा मगर आसिफ के लंड से उसकी गांड छिल गयी थी ओर वो हर झटके पर उसकी गांड का दर्द बढ रहा थाबिनिता मुझे जलील करने के लिए आज दो लंडो पर झुल रही थी मगर अब मुझे भी उनकी चुदाई से मजा आने लगा

बिनिता की कामुक आवाजो से मेरा रस पेन्ट मे ही निकल गया तो बिनिता मेरी तरफ देखकर समझ गयी ओर असलम को कहने लगी देखो मेरे पतिदेव का तो देखते देखते पेन्ट मे ही निकल गया ये सुनकर वो दोनो हंसने लगे ओर मुझे देखने लगे शर्म के मारे मेरी आंखे बंद हो गयी तो सबिता बोली बेवडे तू चोद तो नही सकता मगर चुदते हुए देख तो सकता है तभी आसिफ ने गांडू देख ले चुदाई केसै होती है हम रोज रोज नही आएगे आज की रात तेरी बीबी के नाम है तू भी देख ले मेने शर्म के मारे सिर झुका लिया तो बिनिता ओर जोर से चीखकर मुझे जलील करने लगी हा जान ऐसे ही चोदो मुझेजोर से चोदोक्या खाते हो तुम मेरी तो हालात अभी खराब होने लगीआह आह आह आह आह आहहाय हाय मार डाला रेमेरी गांड फाड दी रे जालिमोआह आह आह आहहाय हाय मै मर जाऊकहकर वो चुदाई मे लगे बीस मिनट के बाद आसिफ नीचे लेटा तो मेरी बीबी ने पैर फैलाकर उसका लंड बिना परेशानी के एकबार मे अपनी चुत मे समा लिया तो असलम के मुसल लंड के अंदर जाते ही एकबार फिर बिनिता मचलने लगी दो चार मिनट कै बाद बिनिता उछल उछल कर अपनी गांड ओर चुत मरवाने लगी एकबार फिर बीस मिनट तक कमरे मे बिनिता की चुत से फचाफच ओर गांड से फटफट की आवाजे निकलने लगी तो बिनिता के मुह सेआह आह आह आहहाय हाय हाय हाय मार डालाउई उई उईईईईईई माकी कामुक आवाजे सिसकारी गुजने लगी असलम ओर आसिफ ने बिना रूके मेरे आंखो के सामने 40 मिनट तक बिनिता की चुत ओर गांड को बजाते रहे ओर वो उछल उछल कर मरवाती रही 40 मिनट की चुदाई के बाद असलम ओर आसिफ का माल निकलने को हुआ तो वो बेड पर खडे हो गये ओर बिनिता घुटनो मुडकर उनके लंडो के आगे खडी हो गयी आसिफ असलम ने मुठ मारकर बिनिता के मुह को अपने माल से भर दिया बिनिता ने अपनी उगलिओ से सारा माल चाटकर उनके लंड पर लगे बाकी रस को चाटकर साफ कर दिया ओर वो दोनो बेड पर बैठ गये तो बिनिता असलम की गोद मे बैठकर मुझे कहने लगी मेरे पतिदेव कैसा लगा मजा आया क्या तुम्हे ये सुनकर मेने फिर से अपना सिर झुका लिया तो आसिफ ने कहा गांडू कैसे बताएगा इसके मुह मे तो रूमाल है ओर तीनो हंसने लगे असलम ने कहा आसिफ इसका मुह तो खोल पूछते है बेचारे को कैसा लगा तो आसिफ ने हंसते हुए मेरे मुह मे फंसी रूमाल निकाल दी मुह खुलते ही मै बिनिता को गाली देने साली कुतिया छिनाल रंडी की ओलाद कोठे की पैदाइश है तू तो ये सुनकर आसिफ बोला भाईजान ये गांडू तो भडक गया तो असलम ने कहा बोलने दे दर्द हुआ है बेचारे को ओर सब हंसने लगे मै चुप होकर बैठ गया तो बनिता बोली असलम 12 बजने वाले चाय कोफी बना लाऊ तो असलम ने कहा हा बिनिता कोफी बनाने चली गयी तो आसिफ ने कहा भाईजान इसका मुह बहुत खुलता है इसबार इसे भी अपना लंड का स्वाद चखाए जरा तो असलम ने कहा आसिफ यार तुमने क्या बात कही है मजा आ जाएगा ओर वो दोनो हंसने लगे मेने कहा मै तुम्हे देख लूगा तो असलम ने कहा पहले हमारा लंड चुसकर देख ले फिर देख लेना हमे ओर हंसने हुए कहने लगा इतनी ही हमारी चुदाई पसंद आई है तो रोज आ जाएगे तेरी बीबी की बजाने तभी बिनिता आ गयी ओर बोली रोज रोज आओगे तो इस बेचारे का क्या होगा इसकी लुली तो फिर हिलाने लायक ही रह जाएगी ओर हसने लगी सभी ने कोफी पी ओर बिनिता ने कहा मुझ से कहा मेरे पतिदेव आपके लिए शराब ले दू क्या तो मेने कहा कुतिया जहर ला दे मुझे रंडी छिनाल तो बिनिता ने कहा ये तो कुते की भोकने लगा क्या करू इसकातो असलम ने कहा हम करेगे जान तुम बेड पर लेट कर मजे लो बस आज की रात तो बिनिता ने आसिफ को कहा आसिफ तुमने तो मेरी प्यारी गांड फाडकर रख दी तो आसिफ ने कहा बिनिता गांड ओर चुत तो फटने के लिए ही बनती हैबिनिता बोली अगर ऐसे बेवडे मिले तो कुछ नही फटता ओर हंसने लगीअसलम ओर आसिफ एकबार फिर बिनिता के बदन को नोचने लगे ओर इसबार उन्होने मेरे मुह को खुला रखा आसिफ इसबार बिनिता के सामने आ गया ओर बिनिता के कोमल होठो के रस को निचोड़कर पीने लगा तो अपने भारी हाथो से बिनिता की चुचियो को मसलने लगा असलम बिनिता की कमर को चाटते हुए उसकी गांड को दबाने लगा ये सब देखकर मेरा लंड भी पेन्ट मे खडा होने लगा तो बिनिता ने मेरी तरफ देखकर कहा वो देखो बेवडे की लुली भी खडी हो गयी है

ये सुनकर वो मुझे देखकर हंसने लगे तो एकबार फिर मेरा सर शर्म से झुक गया उनकी बाते सुनकर मेरा मरने का मन करने लगा मगर मै उनकी चुदाई देखकर कामुक भी होने लगा था

तभी असलम ओर आसिफ के मूसल लंड तनकर अपने विशाल रूप मे आ गये तो दोनो ने बिनिता को छोड दिया ओर बेड से उतरकर मेरे पास आ गये बिनिता बोली आसिफ इस गांडू को पेलने का इरादा है क्या तो आसिफ ने कहा नही जान हम तो इसकी बीबी को दर्द ना हो इसलिए इससे अपना लंड चुसाई करवाएगे ओर हंसने लगे तभी असलम ने मेरा मुह पकडकर आसिफ के लंड पर झुका दिया तो मैने अपना मुह कसकर बंद कर लिया मगर इसका कोई फायदा नही हुआ क्योकी आसिफ ने मेरे मुह पर थप्पडो की बोछार कर दी तो मेने डरकर अपना मुह खोल दिया मुह खोलते ही उसका अपना लंड मेरे मुह मे डाल दिया इससे ज्यादा एक आदमी के साथ क्या शर्मनाक होगा मेरी नसे गुस्से से फट रही थी मगर मै लाचार था आसिफ ने देखते ही देखते पूरा लंड मेरे गले मे उतार दिया जिससे मुझे उल्टी आने लगी तो आसिफ ने आधा लंड बाहर निकाल लिया ओर अब आसिफ का आधा लंड मेरे मुह के अंदर बाहर होने लगा कुछ देर पहले गुस्से से भरी मेरी नसे अब कामुक हो गयी पता नही क्या हुआ मुझे अब आसिफ का लंड चुसकर मजा आ रहा था मगर ये बात बिना दिखाए ही मै आसिफ का विरोध कर रहा था आसिफ ने दस मिनट लंड चुसाकर मुझे आजाद कीया तो असलम ने अपना 7 इची लंड मेरे मुह मे भर दिया उधर आसिफ ने बिनिता को कुतिया बना लिया ओर उसकी गांड ओर चुत को अपनी जीभ से गीला करने लगा बिनिता भी चुसाई से मस्त होकर आहे भरने लगी तभी कुछ देर मे बिनिता का बदन अकडने लगा ओर उसका कामरस उसकी चुत से बाहर निकलने लगा जिसे आसिफ ने चाटकर साफ कीया ओर बिनिता के सिर को बेड पर चिपका दिया अब सबिता की फुली हुई चुत ओर गांड का काला छेद आसिफ के लंड के आगे था आसिफ ने बिनिता की कमर को कसकर पकड लिया ओर अपने लंड के सुपारे को बिनिता की गांड मे उतारने लगा तो बिनिता ने अपनी गांड को कसकर बचने की नाकाम कोशिश करने लगी मेरे मुंह को असलम का लंड चोदने मे लगा था तो मै बिनिता की गांड चुदाई देखने मे लगा था

आसिफ ने बिनिता की कमर को कसकर एक झटके मे आधा लंड उसकी गांड मे ठोक दिया तो बिनिता दर्द से चीख उठी तो असलम ने कहा देख गांडू तेरी बीबी की गांड का गोदाम बन रहा है ओर हसने लगा उधर आसिफ ने अब एक ओर झटका मारा तो बिनिता की गांड मे लंड पूरा उतर गया तो वो फिर से चिखने लगीपापा बचाओ मुझेमा कहा हो तुमउई उईईईईईई उईईईईईईमार डाला रे मेरी नाजुक गांड को फाड दिया रे हाय रे छोडो मुझे तो आसिफ ने कहा रूको जान अभी छोडना नही चोदना बाकी ओर अपना लंड बिना रहम कीये पूरी ताकत लगाकर बिनिता की गांड चोदने लगा अब कुछ देर बाद बिनिता की गांड मे लंड आराम से अंदर बाहर जाने लगा तो बिनिता भी अब अपनी गांड को आसिफ के लंड पर पटकने लगी इधर मै भी मन ही मन लंड चुसाई के मजे लेने लगा तो बिनिता गांड मरवाने के मजे लेने लगी तभी दस मिनट लंड चुसाकर असलम ने अपना लंड बाहर निकाला ओर बिनिता के आगे घुटने मोडकर खडा हो गया बिनिता ने असलम का लंड मुह मे ले लिया तो बिनिता की गांड ओर मुह की चुदाई देखकर एकबार फिर मेरे लंड से रस निकल गया बीस मिनट तक गांड मारकर आसिफ ने गांड से लंड निकाला तो बिनिता की गांड का खुला छेद मेरी आंखो के सामने दिखने लगा तभी असलम ने भी अपना लंड बिनिता की गांड मे ठोक दिया तो बिनिता की चीख निकल गयी तो आसिफ ने कहा जान दर्द हो रहा है तो लॉलीपॉप चुस लो कुछ दर्द कम हो जाएगा बिनिता ने इतना सुनते ही आसिफ का लंड मुह मे भर लिया गपगप कर के चुसने लगी तो असलम ने कहा आसिफ दोनो पति पत्नी लंड चुसना कहा से सीख कर आये तो आसिफ ने कहा सही कहा वो गांडू भी मजे लेकर लंड चुस रहा था तो बिनिता ने आसिफ के लंड को बाहर निकालकर कहा सही मै बेवडा चुस रहा था तो आसिफ ने कहा कसम से हमे पता है तो बिनिता बोली अगली अगली बार दो जने ओर ले आना ताकी इसको भी पूरा मजा मिले ओर हंसने लगी आसिफ ने कहा ठीक है जान ऐसा ही करेगे तुम कहो तो इसकी गांड भी फाड देगे ताकी तुम दोनो को कुता कुतिया बनाकर गांड फाडेगे असलम ने कहा ये भी ठीक कहा ओर अपने झटको को तेज करते हुए बिनिता की गांड फाडने लगा बिनिता की चुत मस्त चुदाई से उसकी गुलाबी चुत से लगातर रस बह रहा था

असलम ने भी बीस मिनट गांड फाडकर अपना लंड बाहर निकाल लिया ओर बिनिता को अपनी गोद मे बैठा लिया बिनिता ने अपने हाथ से असलम के लंड को चुत पर सेट करकर के अपनी चुत मे लेकर बैठ गयी ओर असलम की चोडी छाती से अपनी गोरी गोरी चुचियो को चिपका दिया तो असलम ने बिनिता के होठो से होठो को मिला दिया ओर चुचियो को दबाने लगा तो आसिफ खडा होकर मेरे पास आ गया ओर कहा गांडू दुखी क्यो हो रहा है तेरा ख्याल रखने के लिए मै हू ओर अपना लंड मेरे होठो पर लगा दिया आसिफ के लंड की खुशबु से मेरा मन फिर से लंड चुसने का करने लगा तो आसिफ ने कहा गांडू चूस ले कुछ मजे तू भी कर ले तो मेने मुह मे घुमा लिया आसिफ ने कहा असलम देख तो साला कुवारी लडकी की तरह नखरे कर रहा हैआसिफ ने अपने हाथो से मेरे मुह को घुमाकर अपने लंड के सामने कर दिया ओर मेरे होठो पर अपना लंड लगाकर मुह मे घुसाने लगा तो धीरे धीरे मेने भी मुह खोल दिया अब आसिफ का लंड मेरे मुह को चोदने लगा ओर मै भी मजे लेकर उसका लंड चुसने लगा उधर असलम बिनिता की चुत का बाजा बजाने मे लगा हुआ था

आसिफ ने अब मेरा सिर पकड लिया ओर गले तक लंड मुह मे घुसाकर मुह को चोदने लगा तो मेरे मुह से गो गो की आवाजे आने लगी तो आसिफ ने असलम को कहा ये देख गांडू गाली दे रहा था कुछ देर पहले अब साला केसै लंड खा रहा है तो बिनिता बोली आसिफ मेरे पति के मुह को आराम से चोदोअसलम की धक्कापेल चुदाई से बिनिता की चुत का रस बाहर निकलने लगा तो असलम के लंड से फचफच की आवाजे आने लगीबिनिता लगातारआह आह आह आहहाय हाय हाय मार डालाउईईईईई ईईईई मा कहकर चिल्ला रही थी तो मेरे से नजरे मिलते ही जोर से हस असलम ऐसे ही ओर जोर से चोदो मुझे कहतीआधे घंटे की चुदाई के बाद असलम ने अपना रस बिनिता की चुत मे छोडा तो बिनिता भी झड गयी दोनो एकदम शांत हो गये पांच मिनट तक दोनो एक दूसरे से चिपककर वेसै ही बैठै रहै फिर बिनिता खडी हुई तो असलम ओर उसका काम रस उसकी चुत से बाहर निकलकर उसकी जाघो पर पहुंचने लगाअब आसिफ ने मुझे छोडा ओर बिनिता को बेड पर लेटा दिया बिनिता के लेटते ही आसिफ ने उसके पैर फैलाकर उसकी चुत मे लंड उतार दिया ओर अपने मुसल लंड से उसकी ताबडतोड चुदाई शुरू कर दी तो बिनिता भी गांड उठाकर चुत मे लंड खाने लगी

हाय हाय आह आहउईईईईई ईईईई की आवाजो से एकबार फिर कमरा गुजने लगा आसिफ ने भी आधे घंटे तक बिनिता की दमदार चुदाई कर के उसकी चुत को अपने रस से भर दिया बिनिता की दो राऊड चुदाई के बाद बिनिता के चेहरे पर संतुष्टी ओर थकान के भाव नजर आ रहे थे तो मेरे चेहरे पर शर्म केरात के दो बज चुके है मै दो बार झडने के बाद थक चुका था ओर उधर वो सुस्ताने लगे तो मेरी आंख लग गयी जब सुबह मेरी आंख खुली तो मे बेड पर था वो भी सुबह जल्दी निकल गये मेने बाहर निकलकर देखा तो बिनिता दूसरे मे सो रही थीमै कमरे मे आकर चुपचाप बैठ गया ओर रोने लगा कुछ देर बाद मे खडा होकर नहाकर आफिस निकल गयाबाकी कहानी अगले भाग 2 मै पढ़े यहाँ क्लिक कर के

 

आपको कहानी कैसी लगी?
+1
6.1k
+1
1.6k
+1
12
+1
151
+1
1
+1
1
+1
1

Similar Posts

4 Comments

  1. आधा कहानी पढ़कर ही मेरा झड़ गया। अगर कोई भाभी अपने पति से खुश नहीं है तो मुझे बताए। आपको चोद कर ऐसी ही गन्दी चुदाई कहानी लिखुगा

  2. Maharashtra me kisi girl, bhabhi, aunty, badi ourat ya kisi vidhava ko maze karni ho to connect my whatsapp number 7058939556

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *