Desi Sex Story | Family Sex Story | Hindi Sex Stories | Maa Beta Sex Story | XXX Stories

GYM से आने के बाद माँ की चुदाई भाग-1

GYM से थके आने के बाद मैंने अपनी माँ की चुदाई की और अपनी सारी थकान मिटा दी। दोस्तों मेरा नाम रणदीप है और आज मैं आपको अपनी सेक्स कथा GYM से आने के बाद माँ की चुदाई सुनाने जा रहा हूँ।

दोस्तों मैंने बस अपनी एक गर्लफ्रेंड के साथ से सेक्स किया था वो भी ऊपर ऊपर से और उसके कुछ साल बाद ये सब हुआ। मेरी Hindi Sex Story काफी गजब की है इसलिए पूरा जरूर पढ़ना।

तो दोस्तों मुझे कसरत कर के बॉडी बनाने का काफी ज्यादा शोक है पहले तो मेरी पास GYM जाने के लिए पैसे नहीं होते थे इसलिए मैं घर पर ही कसरत करता था। 

जब मेरी माँ ने मुझे इतनी चाहा से कुछ करता देखा तो उन्होंने मुझे GYM के लिए पैसे दे दिए। उसके बाद मैं बड़ी मेहनत से GYM किया पर पता नहीं क्यों मेरे पेरो में दर्द होने लगा। 

जब भी मैं वहा से कसरत करके आता मेरे दोनों पेरो में तेज दर्द होने लगता और मुझ से चला नहीं जाता। ये देख मेरी माँ डर गई और उन्होंने एक दिन GYM से आने के बाद मुझे कहा ” क्या हुआ बीटा ?? इधर आ तेरा पैर दबा दू हल्का सा आराम आएगा तुझे !! “

उसके बाद मैं बिस्तर पर लेट गया और वो मेरा पैर दबाने लगी। दोस्तों मैं अपने माँ बाप का एकलौता बेटा हूँ इसलिए उस वक्त शाम को घर पर हम दोनों के अलावा कोई नहीं था जिस वजह से मेरी ये माँ और बेटे की सेक्स स्टोरी काफी कामुक बन गई। 

अब मेरी माँ मेरे पैर दबाने लगी और मैं आराम से लेटा रहा। लेटे लेटे मेरी नजर उनके रस बहरे स्तनों पर जाने लगी। 

उन्होंने साड़ी पहनी थी और उनके ब्लाउज से उनके स्तन ऊपर से निकल रहे थे। वो पुरे गोर और गोल थे जिसने देख मेरा लिंग खड़ा होंगे लगा। 

दोस्तों मैंने कॉटन का पजामा पहना था जैसे ही मेरा लंड खड़ा हुआ मेरी माँ की नजर मेरे टोपे पर चली गई। 

पहले तो उन्होंने मेरा लिंग देखा और फिर अनदेखा करते हुए मुझे कहा ” मैं सरसो का तेल गर्म करके लती हूँ !! “

मैं वही लेता रहा और अपने लंड को अपनी जांघो के बीच फसा कर उसे छुपाने लगा। 

मेरे छुपाते ही माँ आ गई और मेरे पैर पर मालिश करने लगी। 

पर मेरा लंड रुका नहीं वो और लम्बा और सख्त होने लगा और मैं उसे रोक नहीं पा रहा था क्युकी दोस्तों उनके स्तन और मुलायम पेट मेरी आँखों में खटक रहा था। 

पर मैं अपनी जांघो के बीच अपना लंड फसा कर रखा और माँ को पता नहीं लगा पर थोड़ी देर बाद उन्होंने मेरे दूसरे पैर पर मालिश करनी शुरू की। 

उन्होंने जब मेरे दूसरे पैर को उठा कर मेरा पजाना ऊपर किया तो मेरी जांघो के बिच से लंड उछाल कर खड़ा हो गया। 

पहले तो माँ उसे देखने लगी और पता नहीं क्या सोचने लगी।   

मैं शर्म के की वजह से उठ कर बैठ गया और अपने फ़ोन को चलाने का नाटक करने लगा। 

माँ – अरे क्या कर रहा है वापस लेट मुझे तेरी मालिश करनी है !! और मुझे वहा कुछ सुजा हुआ भी दिख रहा है !!

मैंने कहा – नहीं मुझे कुछ नहीं कराना मेरा हो गया। 

माँ ने मेरा हाथ कस कर पकड़ा और मुझे खींच कर वापस लेता दिया पर मेरा लंड तब भी तना हुआ था। 

वो मेरा पैर नीचे से दबाते हुए मेरी जांघो पर आई और सेक्सी तरीके से मेरे लंड को देख मेरी जांघो को दबाने लगी। 

उनकी इस हरकत से मेरा लंड अपने सर से पानी टपकने लगा और मैं पूरा कामुक हो गया। पर जब मैंने अपनी गर्लफ्रेंड को होटल में चोदा था उसके बाद से ही मेरा लंड जाम हो गया था। मैं उस वक्त चुदाई करना चाहता था पर सामने बैठी माँ को देख मुझे शर्म आने लगी। 

उसके बाद मेरी सौतेली माँ ने खुद मेरा लंड दबाना शुरू कर दिया और मेरी आँखों में देख कर मुझे कहा ” बेटा यहाँ इतनी सूजन क्यों है ?? ” 

मैं चुप रहा और वो मेरा लंड और यहाँ तक की टटे भी दबाने लगी। जैसे ही उनका पंजा मेरे टटो पर गया मैं दर्द से चिलाय और उन्हें मेरा पजामा उतारने का बहाना मिल गया। 

माँ – अरे अरे क्या हुआ यहाँ चोट लगी है क्या दिखा मुझे !!

उन्होंने मेरा पजामा पकड़ा और उसे खींच कर उतार दिया। 

मेरा लंड कच्छे के नीचे से बाहर लटक रहा था और उसे मुँह से लार भी टपक रही थी ये देख मेरी सौतेली माँ ने अपनी जुबान से अपने होठो को गिला किया और मेरे लिंग को देखने लगी। 

उन्होंने मेरे कच्छे के नीचे से मेरा लिंग पूरा बाहर निकाला और उसे हिलाने लगी। मैंने उनका हाथ पकड़ कर उन्हें रोना चाहा पर उन्होंने मुझे चुप करवा दिया। 

मैं उस वक्त कामुक था तो मैं उन्हें सही से मना भी नहीं कर पाया। 

वो धीरे धीरे अपने मुलायम हाथो से मेरे लिंग को ऊपर नीचे करती रही और दूसरे हाथ से अपनी साड़ी में हाथ डाल कर योनी सहलाती रही। 

अचानक मेरे अंदर जोश चढ़ गया और मैं ये सोचने लगा की अगर माँ मेरी मुठ मार सकती है तो चुदाई भी तो कर सकती है। 

मैं अपना एक हाथ उनके स्तन पर रखा और ब्लाउज के ऊपर से हल्के हाथ से दबाने लगा। 

माँ मेरी तरफ देखि और मुस्कुराने लगी जिसे मैं हाँ समझ कर उनकी चुदाई करने लगा। 

मैं आगे बड़ा और पहले तो उनकी गर्दन पर चूमने लगा और अपने दोनों हाथो से उनकी सेक्सी कमर का छूने लगा। 

वो अपना हाथ हिला हिला कर मेरा लंड हिलाती रही तो अपनी चुत के लिए और कड़क करने लगी। 

मैं धीरे धीर उनका ब्लाउज खोला और उनके स्तनों में मुँह देकर उन्हें चूसने लगा। दोस्तों सच बताऊ तो स्वर्ग तो बस औरत के स्तनों में है। 

उनका गर्म और नरम एहसास अपने चेहरे पर पाकर मैं होश खो बैठा। 

मेरी सौतेली माँ के स्तन काफी गोरे थे पर उनकी चूचियां बड़ी बड़ी और काली थी जिन्हे चूसने में मुझे काफी मजा आ रहा था। 

हम दोनों से इतना रोमांस किया पर एक बार भी एक दूसरे से आँखें नहीं मिलाई वो भी शर्म के मारे।  

तो दोस्तों ये थी मेरी GYM से आने के बाद माँ की चुदाई का भाग 1 अगर आपको मेरा दूसरा भाग पढ़ना है तो यहाँ क्लिक करे ” GYM से आने के बाद माँ की चुदाई भाग-2 ” और मुझे मेल कर के बताए की ये कहानी किसी थी। 

[email protected]

Similar Posts