| | | | |

पति, पत्नी और दोस्त

दिल्ली के महेश ने नई नई शादी की थी। अब उन्होंने अपनी अन्तर्वासना कहानी भेज सभी को ये बताया की कैसे उसे अपनी सुंदर बीवी को अपने कमीने दोस्त से चुदवा दिया। महेश का कहना है की उसदे दोस्त पैसे वाले थे अगर वो बीवी नही चुद्वाता तो अच्छी खासी दोस्ती खराब हो जाती। मजबूरन अपने दोस्त को कुश रखने के लिए महेश ने अपनी गोरी मॉडल जैसी देखने वाली बीवी को चुदवा दिया। अंत में उन्होंने ये भी बताया की ये सब देखते हुए उन्होंने अपना लिंग भी खूब हिलाया और अपनी बीवी को किसी और से चुदाई करता देख उन्हें कामुक आनंद मिला।


पति पत्नी और दोस्त

महेश नाम मेरा उम्र 29 साल दारू की लत है और महीना 15 हजार कमाता हूँ। लिंग 24 घटे खड़ा रहता है कमर चुदाई के लिए तैयार रहती है।

मेरी कहानी pati patni aur dost तब की है जब मेरी नई नई शादी हुई थी। मैं हनीमून पर गया था और अपनी सुंदर माल दार बीवी को अलग अलग तरह से चोदा था। आज से पहले मुझे किसी औरत ने चुदाई की इजाजत नहीं दी थी पर अब जब मेरी शादी हो गई है तो मैं अपनी बीवी को कैसे भी चोद सकता हूँ। हनीमून से जब घर आया तो मेरी करीबी दोस्त बजरी ने कहा “अबे भाभी से कब मिलवा रहा है ??”

बजरी था तो अच्छा दोस्त पर मेरा उस से दोस्ती बनाए रखने की बस एक ही वजह थी उसके खानदान का रुतबा और पैसा। दिल्ली में उसकी कैफ बड़ी फैक्ट्री थी। अब क्यों की मुझे दारू की लत थी और महीना 15 हजार कमाता था तो बस वो ही मेरा दारू पानी का खर्चा उठाता था।

जब बजरी घर आया तो उसने मेरी बीवी से मिलकत की और बैठ कर बाते। उसकी आंखे मेरी बीवी की गर्दन, गांड, जांघो, छाती और होठो पर थी। मैं समज गया की उसे मेरी बीवी किसी लगी। जैसे ही बीवी चाय बनाने गई उसने मुझे कोहनी मार कर पूछा “अबे ये तो माल है माल !! एक बार मुझे भी इसकी चुत दिलवा दे। “

उसने मजा ही मजाक में यही बात बार बार बोलना शुरू कर दिया। तब मुझे लगा की वो मजाक नहीं कर रहा है। मैंने भी अपनी दोस्ती बनाए रखने के लिए उसे मेरे पीछे आने को कहा।

हम दोनों रोसाई में गए और मैंने अपनी बीवी को पीछे से गले लगा लिया और उसे गाल पर चूमने लगा।

बीवी – क्या आप हर जगह शुरू हो जाते हो !! देख नही रहे अपने साहबजाते के लिए चाय बना रही हूँ !!

महेश – हम्म्म !! जहा तुम वह मैं !!

ऐसा कह कर मैंने अपने दोस्त का हाथ पकड़ा और उसे अपनी बीवी की गांड पर रख दिया। मेरा दोस्त बजरी हैरान होकर मुझे देखने लगा। मैंने उसे इशारा कर कहा करले जो करना है।

मेरा दोस्त बजरी मेरी बीवी की साड़ी के ऊपर से ही उसकी गांड सहलाने लगा और उसके चूतड़ों के बीच अपना हाथ घुसा कर आनंद लेने लगा।

बीवी – क्या तुम ये सब रात को नहीं कर सकते !!

महेश(बीवी की छाती ब्लाउज के ऊपर से दबाते हुए) – हम्म कर तो सकता हूँ पर अभी ज्यादा मन कर रहा है

बीवी (पति के हाथो पर हाथ रख कर अपनी छाती दबवाने लगी) – हम तो हमारा भी है पर अपने दोस्त गलत वक्त पर नहीं आए।

महेश – हाँ लेकिन उन्हें चाय पिने की इतनी जल्दी भी नहीं है !!

(इस तरह बात करते हुए महेश अपने एक हाथ से अपनी बीवी के ब्लाउज के ऊपर से उसकी छाती दबाते हुए अपनी बीवी को होठो पर चूमने लगे। पीछे से उसे दोस्त बजरी अपने एक हाथ से उसकी बीवी की गांड सहलाते रहे। महेश की बीवी इसी बीच कामुक होने लगी और अंदर ही अंदर गीली होने लगी।)

कुछ देर ऐसे ही चलता रहा और फिर मैंने अपनी बीवी को चाय पर ध्यान देने को कहा और धीरे धीरे उसकी साड़ी पेटीकोट के साथ ऊपर उठा कर अपने दोस्त को उसकी कच्छी में हाथ डालने को कहा।

मेरे दोस्त ने अपनी आंखे फाड़ कर पहले तो मेरी बीवी गांड देखि और फिर उसके अंदर हाथ डालकर धीरे धीरे चुत और गांड के छेद को ऊपर से रगड़ने लगा। मैं आगे से अपनी बीवी की गर्दन चूमता रहा ताकि वो पीछे न देखे। उसके बाद मेरा मित्र नीचे बैठा और मुझे पीछे हटकने का इशारा दिया। मैं पीछे हटा तो उसने मेरी बीवी की कच्छी नीचे की और उसके पति कोट में अपना मुँह घुसा कर उसके चूतड़ों को अंदर से चाटने लगा।

मेरी बीवी देखते ही देखते गन्दी आवाजे निकालने लगी और यस मेरी आँखों के सामने हो रहा था जिस वजह से मेरा लिंग खड़ा हो गया। मैंने उसे बाहर निकाला और हिलाते हुए पीछे बैठ कर अपनी बीवी की चटाई होते देखता रहा।

इस तरह मेरी बीवी अपने pati ke dost se chudai करवाने लगी। मेरा दोस्त चुत चाट कर उसकी साड़ी से बाहर निकल और फिर अपने लिंग पर थूक कर उसकी चुत में घुसाने लगी। मेरे बीवी उस दौरान इस भरम में थी की मैं उसकी चुत गांड चाट रहा था।

(महेश अपना लिंग हिलाते हुए पीछे बैठे बस देख रहे थे वही उनका दोस्त उनकी बीवी के कान पर चूमता हुआ अपने लंड को हिला हिला कर उसके महेश की बीवी की चुत में घुसा रहा था। लिंग अंदर जाते ही उसने एपीआई कमर हिला कर महेश की बीवी की चुदाई शुरू कर दी।)

बीवी को दोस्त से चुदवाया

तो इस तरह pati patni aur dost की प्रेम कहानी शुरू हुई मेरा दोस्त जोर से अपने कापते हाथो से मेरी बीवी के ब्लाउज खोला और उसकी चूचिया दबाने लगा। मेरी बीवी तब तक बेकाबू हो चुकी थी और मैं पीछे बैठा उसकी जांघो से योनी का रस बैठा हुआ देख पा रहा था। मेरा दोस्त अपनी आगे चूतड़ों को आगे पीछे हिला कर मेरी बीवी को जबरदस्त चोदता रहा।

कुछ ही देर बाद बीवी ने पीछे मुँह किया और मेरे दोस्त बजरी को होठो पर चूमना शुरू कर दिया। उसने कुछ देर तब खूब जबरदस्त तरीके से बजरी के होठो को चूसा और फिर जैसे ही उसने अपनी आंखे खोली वो डर गई। उसने बजरी को धका दिया और चीला कर मुझे पुकारा “महेश !!!”

पर मेरा दोस्त उसे जबरदस्ती पकड़ा और उसकी गीली चुत चोदता रहा। मेरी बीवी ने जब मुझे पीछे बैठा लिंग हिलाता देखा तब वो समज गई की मेने ही अपने दोस्त को ये सब करने की अनुमति दी है।

मेरी बीवी क्यों की गीली थी उसने भी एक अलग लिंग का अपनी चुत में एहसास किया और अपनी गांड को हिला कर मेरे दोस्त के टोपे को चोदने लगी। वो अपनी दोनों चूचिया मेरे दोस्त के हेवन से हाथो में थमाई और मेरा दोस्त उसके दोनों निप्पल अलग अलग तरह से खुश कर उसके होठो को चूमने चूसने लगा। मैं पीछे बैठा मेरे दोस्त की गन्दी हरकत और कैसे वो मेरी जवान सुंदर बीवी को दबोच कर चोद रहा है देख रहा था। पहले ये सब मुझे ठीक नहीं लगा पर नजाने क्यों अपनी बीवी को चीखते और किसी और मर्द से चुदाई करते देख मुझे आनंद आ रहा था।

मैं पीछे बेठा अपने दोस्त के गोटे तेजी से अपनी बीवी की चुत की पिटाई करते देख अपने लिंग को हिला रहा था। तभी मेरे दोस्त ने मेरी बीवी को नीचे बैठाया और उसके होठो पर चुम कर उसके मुँह में अपना गन्दा लिंग घुसाने लगा। मेरी बीवी जो मुझे प्यार से देखती थी पहली बार मुझे घीनोनी नजरो से देखते हुए मेरे दोस्त का लंड चूस रही थी।

उसने मेरे दोस्त के गोटे अपने लिपस्टिक वाले होठो से चूमे और उसपर लाल निशान छोड़ दिए। मेरा दोस्त भी खूब उसके मुँह को को चोद रहा था और कुछ ही देर में उसने उसके मुँह में लेस छोड़ दिया। मेरी बीवी झड़ने के बाद भी उसके लिंग को जोर जोर से प्यार से चुस्ती रही और टोपे से आखरी बून्द भी उसने खा ली।

ये देख मैं हैरान था ऐसा उसने मेरे साथ कभी नहीं किया था। उसने तो मेरा लंड कभी मुँह में भी नहीं लिया था। ये देख मुझे गुसा आया। मेरे बीवी ने मेरे दोस्त का माल अपने मुँह में भरा और फिर मेरे तरफ किसी रंडी की तरह चलकर आई और मेरी गोटियों को जोर से बेदर्दी से पकड़ कर नोचने लगी और मुझे अपना मुँह खोलने का इशारा किया।

मैंने अपना मुँह खोला तो उसने मेरे ही दोस्त का माल मेरे मुँह के अंदर डाला और मुझे चूमने लगी। चूमते हुए उसने मेरी गोटिया जोर से इस कदर दबाई की वो दर्द से लाल हो गई।

पीछे से मेरा दोस्त आगे आया और मेरी बीवी की गन्दी गांड चाटने लगा। इस तरह मैंने अपना दोस्त का दिल जीता और मेरे दोस्त ने मेरी बीवी का। और मेरी बीवी उस दिन के बाद मुझ से कभी नहीं चुदवाई। वो अलग अलग लोगो को बुला कर मेरे सामने उनके साथ सेक्स करने लगी और मैं किसी कमजोर इंसान की तरह उसे किसी ताकतवर मर्द के साथ चुदाई करता हुआ मुठ मरता रहा।


ये थी मेरी पति पत्नी और दोस्त की चुदाई कहानी। ये मेरी जिंदगी की एक सच्ची कहानी है और जब भी कोई अनजान मर्द मेरी बीवी को चोदता है तो मैं अपनी बीवी की गन्दी गांड चाट कर साफ करता हूँ। ऐसी ही risto me chudai ki kahani पढ़ने के लिए मेरी कहानी लाइक करे और नीचे कमेंट करे।

आपको कहानी कैसी लगी?
+1
71.7k
+1
716
+1
15
+1
15.7k
+1
1
+1
51
+1
2

Similar Posts

One Comment

  1. Delhi se Koi single girl, sexy bhabhi, hot aunty mera land lena chahe gi 9289047970.
    Mujhe sex ka kafi shok hai itna ki main kisi bhi umr ki aurat ke sath chudai kr skta huu bs wo sundr honi chahite. Meri antarvasna 8 ghnto ki chudai ke bad shant hoti hai.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *