Desi Sex Story | First Time Sex Story | Hindi Sex Stories | XXX Stories

मालिक की बेटी की चुदाई कहानी – 1

मालिक की बेटी गोरी और दूधिया थी। उसकी 36 छाती और 27 की पतली कमर देख मेरा उसे गले लगाने का दिल करने लगा।

मित्रो मेरा नाम केशव दास है और ये मेरी मालिक की बेटी की चुदाई कहानी है। में पटना का रहने वाला आम आदमी हूँ जो दिल्ली मजदूरी करने आया था। यहाँ की औरते और लड़किया देखा मेरा मुँह खुला का खुला रह जाता है। दिल्ली में हर दूसरी लड़की एक चुदाई का सेक्सी माल है जिनका मुँह चोदने की में दिन रात कल्पना करता हूँ।

एक दिन किसी पैसे वाले आदमी ने मुझे सफेदी का काम दे दिया। उसने नया घर ख़रीदा था जहा मुझे पूरा काम अकेले करना था। इस तरह मेरी क्सक्सक्स कहानी की शुरुआत हुई।

झोपडी में प्रेस वाली के साथ चुदाई भाग 1

हलाकि उसे उस घर की जरूरत नहीं थी पर फिर भी वो उसका काम पूरा करवाना चाहता था।

उसने मुझे अकेले काम पर रखा। इसी बहाने मेरे हर दिन की कमाई होने लगी।

कुछ 5 दिन बार उसकी सेक्सी बेटी मेरा काम देखने आई तब तक में आधा घर का काम कर चूका था।

मालिक की बेटी ने मुझे घिनौनी नजरो से देखा और मुझे नजरअंदाज करते हुए पुरे मकान में घूमकर मेरा काम देखने लगी।

अंदर ही अंदर में उसे चोदने और चूसने की अश्लील कल्पना करने लगा।

मालिक की बेटी करीब 25 साल की थी जो मुझ से भी लम्बी थी। उसने टाइट जीन्स पहनी थी जिस कारण मुझे उसकी कमर और गांड दोनों दिख रही थी।

साथ ही ऊपर की कमीज से उनकी एक मोटी चूची भी मुझे दिख रही थी। मोटे होठो पर लाल लिपस्टिक काफी सेक्सी थी जो मुझे अंदर ही अंदर उत्साहित कर रही थी।

भिखारिन के भोसड़े का भरता

मालिक की बेटी ने मेरा काम देखा और वहा से चली है। अब मेरी किस्मत में मालिक की बेटी जैसी माल दार आमिर जदी कहा होगी।

मैं वापस गया और अपना काम करने लगा पर कुछ देर में मुझे थकान सी लगने लगी। करीब दोपहर के एक बजे मैंने अपना खाना खाया और सो गया।

मैंने सोचा की मालिक तो है नहीं और अब उसकी माल दार लड़की भी चली गई है तो क्यों न थोड़ा सो लिया जाए। मैं करीब 15 मिंट ही सोया होगा की तभी मलिन वापस आई और उन्होंने मुझे सोता हुआ देख लिया। मलकी की बेटी घुसे से मेरे पास आई और मेरे ऊपर खड़ी होकर अपना पैर जुटे से निकाला और मेरे लिंग पर रख दिया और बोली “यहाँ तुम्हे सोने के लिए पैसा देते है क्या मेरे पापा ?”

मैं बोला – नहीं मालकिन वो बस आंख लग गई तो सोचा थोड़ा आराम कर लिया जाए।

उसने मेरी एक नहीं सुनी और मेरी पैंट के ऊपर से ही मेरे लिंग को अपने पैर से सहलाने लगी। धीरे धीरे मेरा लिंग उठ खड़ा हुआ।

चुदाई की कहानी 2020; जमादारनी की चुदाई भाग 1

मैं नीचे लेता मालिक की बेटी थे बड़े थन और उनके पीछे दीखता आधा मुँह देख कामुक हो रहा था।

ऊपर से उसकी मोटी सेक्सी जाँघे मुझे अपनी सिमा पार करने के लिए मजबूर करने लगी।

जैसे ही छोटी मालकिन को अपने पैर पर मेरा खड़ा होता लिंग महसूस हुआ वो और गुसे में आ गई और उन्होंने मुझे अपनी पैंट खोने को कहा।

मैंने अपनी पैंट खोली और उनके सामने अपना लिंग निकाल कर बेशर्मो की तरह शामे लेटा रहा।

छोटी मालकिन ने मुझे घिनौनी नजरो से देखा और मेरे नंगे लंड पर अपना पैर लगाने लगी।

उनके मोती लाल होठों को देखता हुआ मैं अपने लिंग पर होने वाले दर्द को बर्दाश करता रहा।

उसके बाद छोटी मालकिन नीचे बेटी और मैं उनके थनो की दरार देखने लगा। देखते ही देखते लंड से पानी छूटने लगा तो मुझे से और रुका नहीं गया। मैं अपने दोनों रूखे और सख्त हाथो से छोटी मालकिन के कोमल और मुलायम थन दबोच बैठा।

मालकिन की सासे तेज हो गई जब मैंने उनकी छाती को दबाना शुरू कर दिया। उसके बाद छाती को दबाते हुए मैं मालकिन के होठो को चूमने लगा। उनकी लाल लिपस्टिक मेरे होठो पर भी चढ़ गई।

मालकिन की चूचिया खड़ी हो गई और मैंने उन्हें भी अलग अलग तरह से दबाना शुरू कर दिया। जवान 25 साल की लड़की का शरीर मैंने पहली बार इस तरह छुआ था इसलिए दोस्तों मेरी अन्तर्वासना को पता आनंद मिल रहा था।

धीरे धीरे जब मेरा अंदर से डर निकल गया तो मैं छोटी मालकिन की जीन्स का बटन भी खोला और कच्छी में अपना हाथ डाल दिया। हाथ डाला तो पता लगा की मालकिन तो पूरी गीली हो चुकी है और लोडा लेने के लिए तैयार भी है।

नौकरानी और मालिक की चुदाई

मैं जल्दी से खड़ा हुआ और अपनी पैंट पूरा उतारा। साथ ही मालकिन की जीन्स आधी नीचे किया और उन्हें पास खड़ी लकड़ की सीधी के सहारे झुका कर खड़ा कर दिया।

इस तरह मैं अपना गन्दा मुँह उनकी सेक्सी और साफ गांड में घुसाया और चुत गांड दोनों को चाटने चूमने लगा। चुत का रस काफी लग सा मजा दे रहा था। मैं तो उसकी चुत से नशा करने लगा।

मालकिन झुक कर कड़ी रही और अपनी ही चूचिया दबा दबा कर लाल करती रही और पीछे में उनके साफ छेदो को अपनी गन्दी जुबान से चाटने लगा।

दोस्तों एक भिकारी आदमी को चुदाई करने के लिए इतनी माल दार औरत मिलेगी ये कभी किसी ने सोचा नहीं होगा। इसलिए मैं तो यही चाहुगा की हर मजदूर और गरीब आदमी को इस तरह की चुदाई करने को मिलना चाहिए।

दोस्तों ये मेरी कहानी का पहला भाग है अगर दूसरा भाग पढ़ना चाहते है तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करे। साथ ही मुझे मेल भेज कर बताए की आपको किसी chudai kahaniya कामुक लगती है।

मालिक की बेटी की चुदाई कहानी – 2

Similar Posts