| | | | |

माँ को खेत में चोदा

खेत में तो अपने काफी सारी चुदाई कहानियाँ पढ़ी होगी पर क्या आपको पता है मैंने कैसे अपनी माँ को खेत में चोदा ? नहीं न तो मेरी इस चुदाई कहानी को पूरा पढ़ना और उसके बाद अपना लंड पकड़ना। 

मैं 25 साल का राहुल मान आपको अपनी सेक्स की देसी कहानी सुनाने जा रहा हूँ। मैं बस एक खेती करने वाले परिवार का सबसे छोटा सदस्य हूँ। मेरी बड़ी बहन की शादी हो रखी है और अब घर में मैं, मेरी माँ और बाप ही है। मेरे पिता की उस वक्त टांग टूट गई थी तो वो चल नहीं सकता था। 

इसलिए मैं और मेरी माँ ही खेत में अकेले काम किया करते थे। मुझे गाँव के लोगो से पता चला था की मेरे माँ बाप मेरे असली माँ बाप नहीं है मुझे गोद लिया गया था। 

ये बात मेरे घर वालो ने आज तक मुझ से छिपाई थी इसलिए मुझे काफी अकेलापन लगता था। क्यों की वो मेरी असली माँ नहीं थी धीरे धीरे जैसे जैसे मैं जवान होता गया मैं अपनी माँ को कामुक नजरो से देखने लगा। 

मेरी माँ दिखने में काफी सेक्सी थी। उनके बड़े बड़े चूतड़ और सेक्सी ठन काफी हॉट और सेक्सी थे। ऊपर से वो पूरा दिन खेत में लगी रहती तो उनका शरीर काफी कामुक बन गया। 

मेरी माँ की उम्र करीब 36 साल होगी और मेरे बाप की 61 अब आप सोचोगे की उम्र में इतना अंतर ?

मेरी में की कम उम्र में ही शादी कर दी गई थी इसलिए मेरा बाप 61 साल का है। अब इसी कारण मेरा सौतेला बाप मेरी सौतेली माँ को संतुष्टि नहीं कर पता था और मेरी माँ अकेले अपनी चुत में उंगलिया चला कर काम चलाती। 

इसी लिए माँ को खेत में चोदा कहानी में मैंने अपनी माँ को चोदा और उन्हें सेक्स का पूरा आनंद दिया। एक दिन सुबह सुबह मेरी सेक्सी माँ खेत में काम कर रही थी। 

उसने मुझे साथ काम करने के लिए बुलाया और मैं चला गया। खेत में काम करने के लिए झुकना पड़ता है इसलिए मैं अपनी माँ के आस पास ही रहा। 

लंड हिला हिला कर थक गए? नीचे क्लिक करे !!

Ad

वो कभी झुक कर खेत में दवा डालती तो कभी खराब फसल को काट कर हटाती। जब वो झुकती तो मुझे सामने उसके झूलते हुए दो बड़े स्तन दीखते और पीछे से निकली गांड से मेरा लिंग खड़ा हो जाता। 

अपनी सौतेली माँ के शरीर को ताड कर मैं कभी कभी अपने लंड को भी पकड़ लिया करता। उस वक्त न तो मेरे पास फ़ोन था न और कोई साधन जिस से मैं गन्दी फिल्म देख अपने लंड को शांत कर सकू। 

इसलिए मेरी गन्दी नजरे चुदाई के माल की तलाश में रहती थी। 

उस वक्त ठंड का मौसम था सुबह जल्दी काम कर के मरी माँ बीच खेत में खाट बिछा कर गर्म धुप के आराम करने लगी। 

उन्होंने मुझे बुलाया और कहा ” राहुल बेटे मेरे पैर दबा दे काफी दर्द उठ रहा है आज काफी काम कर लिया !! “

मैं आगे बड़ा और सरसो का तेल लगा कर उनके पेरो को दबाने लगा। माँ की सेक्सी जांघ अपने हाथ में लेकर मेरा लिंग खड़ा होने लगा। 

पैर दबाते दबाते जब मैं कामुक होने लगा तो मैं उनके पेरो को गन्दी तरह छूने लगा। 

इसी तरह माँ को पता लग गया की मैं क्या क्र रहा हूँ। वो अचानक उठी और मुझे देखने लगी। 

इतने में मैं अपना खड़ा लंड छुपाना भूल गया जो उनकी नजरो में आ गया। 

तभी मेरी कहानी maa ko khet mein choda की हॉट शुरआत हुई। सालो बाद माँ ने खड़े लिंग को देखा और वो भी कामुक हो गई। उन्होंने मुझे पहले तो गुस्से में कहा ” क्या कर रहा है तू !! “

मैंने कुछ नहीं कहा और नीचे देखने लगा। 

तभी माँ ने अस पास देखा और मेरे लिंग पर आहत रख कर कहा ये क्या है !! 

उन्होंने मेरे पजामे में हाथ डाला और मेरा खड़ा लिंग निकाल कर उसे हाथ में ले लिया। 

हाथ में लेकर वो उसे हिलाने लगी और मुझे जोश चढ़ने लगा। 

मैं आगे बड़ा और उनको धका दे कर खाट पर लेटाया और उनके सूट में हाथ डाल कर स्तन दबाने लगा। 

माँ – बेटे तेरी माँ हूँ मैं कोई रंडी नहीं हट मेरे ऊपर से !!

मैंने कहा – माँ हो तुम मेरी पर असली वाली नहीं !!

ये सुनकर वो चुप हो गई और मुझे चुदाई के लिए अपने आप को गर्म करने दिया। 

मैं स्तन दबाते हुए अपना एक हाथ उनकी सलवार में घुसाया और गर्म छूट को उनलगी करने लगा। 

चुत काफी मजेदार थी और मैंने पहली बार ऐसा काम किया। अब आप सोच सकते है की जिस लड़के न कोई गन्दी फिल्म या चुत तक न देखी हो वो कितना पागल हो जायेगा। 

मैं जल्दी जल्दी उनका सूट ऊपर उठाया और उनके बड़े बड़े स्तन दबा कर काली चूचिया चूसने लगा। धीरे धीरे माँ भी सेक्सी हो गई और उनका शरीर गर्म होने लगा। 

साथ ही मुझे अपने हाथ पर गिला गिला भी लगने लगा। मैंने जल्दी जल्दी उनकी सलवार का नाडा होला और उनकी टांग उठा और चुत देखने लगा। 

मुझे मजबूरन खुले खेत में ही चुदाई करनी थी क्यों की घर पर बाप था। हमारा खेत काफी बड़ा था इसलिए दूर के किसी को पता नहीं लगा। 

मैं छूट को खोल कर देखा तो वो अंदर से लाल थी। पता नहीं क्यों चुत देखते हुए मेरे मुँह से पानी टपकने लगा और मेरा उसे चाटने का दिल करने लगा। 

मैं आगे बड़ा और उनकी चुत पर धीरे धीरे अपनी जबान रगड़ने लगा। कामुक होकर माँ भी सेक्सी सासे लेने लगी। 

मैं उनकी चूचियां दबाते हुए उनकी चुत चाटने लगा और वो आनंद लेती रही। 

उसके बाद मैंने थोड़ा सा सरसो का तेल लिया और अपने लिंग पर लगा उसे हिलाने लगा। इतने में माँ की कामुकता बढ़ने लगी और उनका शरीर कापने लगा। 

थोड़ी देर तक मैंने उनकी चुत को इसी तरह तड़पाया और उसके बाद मैंने अपना लंड धीरे से उनकी चुत के अंदर डाल दिया। चुत के अंदर लंड घुसते ही चुत अंदर से और पानी चोदते लगी। 

गीली चुत में लंड डालने के बाद मेरा टोपा भी बड़ा हो गया और मैं उन्हें उछाल उछाल कर चोदने लगा। दोस्तों इसी तरह मैंने माँ को खेत में चोदा। मैं जोर जोर से अपनी कमर उनकी गांड पर मारने लगा और उन्हें कामुक आनंद देने लगा। 

माँ – और और अहह बेटा और अंदर डाल अहह !!

मैं अपने लंड को कभी धीरे धीरे अंदर बाहर करता तो कभी तेजी से। मैंने माँ की टोनो टंगे ऊपर उठा और गले लगा राखी थी और उनकी गांड पर जोर से अपने लंड मार रहा था। 

बार बार मेरा लंड चुत से फिसल कर बाहर आता और अंदर चला जाता। लंड की रगड़ से चुत में से अपनी निकलने लगा। 

मेरे गोतो पर लसलसी लार झूलने लगी और खाट पर चुत का थूक गिरने लगा। 

मैंने चुदाई करते हुए अपनी माँ के मुँह पर कपड़ा डाला ताकि चुदाई के वक्त मैं ये बात ही बुल जाऊ की मैं अपनी माँ की चुदाई कर रहा हूँ। 

देखते ही देखते माँ का कपकपाता शरीर चुत से पानी छोड़ने लगा और मेरा सारा लंड गंदा कर दिया। 

सेक्सी चुत के गंदे पानी से मेरा लंड भी टाइट हो गया और मैं अपनी गांड हिला हिला कर अपने कूल्हे से माँ की गांड की पिटाई करता रहा। 

अचानक मेरे लंड से सफ़ेद माल निकलने लगा और वो काफी सारा था। 

मैंने सारा पानी चुत के अंदर छड़ दिया और बस उसके बाद मैं वही थक कर रुक गया। 

इस तरह मैंने माँ को खेत में चोदा और उनकी चुत और मेरे लंड से गन्दा पानी निकाला। 

उसके बाद मैं अपनी माँ के साथ उसी खाट पर पड़ा रहा। तो दोस्तों ये थी एक जवान लड़के की ma ko khet me choda चुदाई कहानी। 

आपको कहानी कैसी लगी?
+1
1
+1
3
+1
0
+1
0
+1
0
+1
2
+1
1

Similar Posts