| | | | |

पति ने जबरदस्ती सुहाग रात में चोदा

पत्नी के साथ पहली सुहागरात पर ही सिमा ने जबरदस्त चुदाई कर डाली। उसके हवसी पति ने जैसे ही शादी के बाद कमरे में कदम रखा वैसे ही वो सिमा को जबरदस्ती चूमने लगा और उसकी चुत रगड़ कर सिमा को गिला कर दिया। सिमा की रिस्तो में चुदाई की कहानी पड़े और जाने की कैसे उसने अपने चुदाई खोर पति को झेला।


मेरे पति ने मुझे उठा पटक कर चोदा और शादी के अगले दिन ही मेरा उठना बैठना मुश्किल कर दिया। मेरा नाम सिमा है और आज मैं यहाँ अपनी कहानी आप सभी को बताने जा रहा हूँ। इस चुदाई कथा में मैं आपको बताऊगी कैसे मेरे पति ने शादी के पहले दिन ही चुदाई कर डाली और मुझे पीछे से लाल कर दिया। 

आपको पता ही होगा की शादी की रात क्या होता है। सबकी अपनी अपनी सोच और फेसला होता है की उन्हें चुदाई करनी है हल्का फुल्का प्यार। पर जब मेरी शादी हुई तो मेरा तो बुरा हाल हो गया। 

दोस्तों मेरी शादी मेरे माता पिता की मर्जी हसे हुई थी इसलिए मुझे तो पहले ही डर लग रहा था की एक अनजान आदमी के साथ एक बंद कमरे में मेरा क्या होगा। 

मेरी इस हिंदी सेक्स कहानी में मैं पुरे वक्त चुदाई सेहती रही और अपने पति को रुकने के लिए बोलती रही।  

अब हुआ क्या जब शादी के बाद मैं अपने पति के साथ सुहागरात वाले कमरे में गई तो मुझे डर लगने लगा। मेरा पति मुझ से 4 इंच लम्बा चौड़ा आदमी था। मेरे पति को GYM और बॉडीबिल्डिंग का बड़ा शोक था पर उसका शरीर मोटापे से भरा था और उसका चेहरा भी कुछ खास नहीं था। 

तो अंदर जाते ही वो बिस्तर पर बैठ गया और मुझे देखने लगा। मैं शर्मा कर उसके पास दूध का गिलास लेकर गई। 

उसने मेरे हाथ से दूध का गिलास लिए और मेरे थनो को देखते हुए एक सास में सारा दूध गले से नीचे उतार लिया। पति की गन्दी नजरे मेरे शरीर पर थी वो मुझे बिना पलक झपकाए देखे जा रहा था और डर के मरे मेरे हाथ पैर कापने लगे थे।

(सिमा को पता था की अब उसके साथ क्या होने वाला है। वैसे देखा जाए तो पति पत्नी के बीच होने वाले सेक्स में कोई बुराई तो नहीं है पर शादी के पहले दिन ही चुदाई करना एक लड़की के लिए काफी मुशिकल है क्यों की जिस मर्द से उसकी शादी हुई है वो तो उसके लिए अनजान है। )  

उसके बाद मैं धीरे से चल कर बिस्तर के दूसरी तरफ जाकर चुपचाप बैठ गई। सर्दियों का मौसम था हमारा कमरा ठंडा और शांत था। कमरे की वो शांति मेरे शरीर के अंदर अजीब से कपकपाहट पैदा कर रही थी। 

तभी मेरे पति ने अपनी जेब मेसे एक गुटके का पेकिट निकाला और उसे खाने लगा। अब ये देखकर में सहम गई और सोचने लगी की किस अनपढ़ जाहिल से मेरी माँ ने मेरी शादी कर डाली। 

उसने गुटका कहते हुए मेरे पेरो पर हाथ रखा और कहा ” ठीक तो है न तुम? “

मैंने धीमी आवाज में कहा ” हाँ “

मेरे हाँ कहते ही उसने मेरे पेरो को अपने हाथो से सहलाना शुरू कर दिया और मैं चुपचाप बैठी रहीवो धीरे धीरे अपना हाथ मेरे चूतड़ों के पास लेजाने लगा तो मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और कहा ” ये क्या कर रही है आप “

पति (तेज आवाज में) – क्या हुआ डार्लिंग हम पति है तुम्हारे ?

मैंने उसका हाथ अपनी जांघो से हटाया और बिस्तर से खड़ी हो गई। 

पति – अरे अरे ये किस बात की अकड़ दिखा रही हो तुम ?

पत्नी – जो आप चाहते है वो मैं अभी नहीं करना चाहती। 

ये सुन वो गुस्से में आ गया। वो खड़ा हुआ और मेरे करीब आकर उसने मेरा घूंघट हटाया और कहा ” ऐसे कैसे नहीं करोगी मेडम शादी किए है हम तुमसे !”

उसके ऐसा बोलते ही मेरी सासे तेज हो गई और मैं डर के मारे अपने कदम नीचे लेने लगी। वो धीरे धीरे मेरे करीब आता गया और मैं पीछे होती रही। 

(सिमा डॉ के मरे पीछे होने लगी वो सेक्स करना तो चाहती थी पर उसका पति उसके लिए पूरा अनजान था। और एक अनजन के साथ बंद कमरे में हर औरत डर्टी है। फिरभी जिस तरह उसका पति उसके सामने उसके जिस नजरो से देख रहा था वो देख सिमा अंदर ही अंदर गीली होने लगी क्यों की पहली बार किसी मर्द ने उसे बिना डरे ऐसे देखा की जैसे खा ही जाए। सिमा ने अपनी छाती पर हाथ रखा और धीरे धीरे पीछे जाने लगी।)

अंत में मैं दिवार से जाकर चिपक गई। मेरा पति मेरे पास आया और गुटका चबाते हुए मेरी आँखों में आँखों डाल कर मुझे देखते हुए मेरे स्तनों को ढकने वाला पल्लू हटा कर नीचे गिरा दिया। 

मैं तेज तेज सासे लेने लगी और वो गुटका कहते हुए कभी मेरे चेहरे को देखता तो कभी मेरी फूलती छाती को। तेज सासो की वजह से मेरी छाती हिल रही थी जिसे देख उसकी चुदाई की इस्छा बढ़ने लगी। 

उसने कमरे की दिवार पर गुटका थूका और मेरे होठों पर अपने होठ लगा कर मुझे बेशर्मो की तरह चूमने लगा। 

उसके मुँह से गन्दी बदबू आ रही थी। उसने मुझे होठो पर चूसना शुरू कर दिया और एक हाथ से मेरी छाती दबाने लगा तो दूसरे से मेरी कमर पर हाथ रख लिया। 

मैं आँखे बंद कर के उसकी ये हरकत सेहती रही। कुछ देर बाद उसने मेरा हाथ पकड़ा और मुझे खींच कर बिस्तर पर लेटा दिया। उसके गुटके का गंदा स्वाद और रंग मेरे मुँह पर चढ़ गया था। 

बिस्तर पर लेटा कर वो मेरे ऊपर चढ़ा और मेरा ब्लाउज खोल कर मेरे दूध पीने लगा। उसने अपने दोनों हाथो से मेरे स्तन पकडे और बरी बरी से उनपर चूसने लगा और मेरी आँखों में देखता रहा। 

(पूरी जिंदगी में किसी ने सिमा के साथ ऐसा नहीं किया था। सिमा की बड़ी छाती को पहली बार किसी ने अपने होठो से चूसा जिस कारण उसके दोनों निप्पल लाल होकर खड़े हो गए उसका पति जोर जोर से उन्हें आगे पीछे ऊपर नीचे हर जगह से चूसे जा रहा था।)

उसी वक्त मुझे थोड़ा थोड़ा आनंद आने लगा। जिस तरह से वो अपना मुँह मेरी चूचियों पर चला रहा था उसकी वजह से मेरी योनी नम होने लगी। 

मेरी दोनों चूचियां कड़ी हो गई। खड़ी चूचियां देख वो कुश हो गया और मेरी गर्दन पर चूमने लगा। मेरी को चूचियां अपनी उंगलियों से दबाते हुए वो मेरी गर्दन चाटने चूमने लगा और मेरे पुरे शरीर पर रोंगटे खड़े हो गए। 

मुझे इस तरह शादी के पहले दिन ही चुदाई का मजा आने लगा। 

उसके बाद उसने मेरा लेहंगा खोला और मैंने शर्म के मारे अपने दोनों हाथो से अपना मुँह ढक लिया। जैसे ही उसने मेरा लेहंगा खोला मैंने अपने दोनों पैर आपस में चिपका लिए। 

उसने धीरे से मेरे घुटनो पर हाथ रखा और जोर से दोनों पैर एक झटके में खोल दिया। पैर खोलने के बाद उसने मेरी कच्छी उतारते हुए कहा ” अहह “

कच्छी उतार कर उसने अपनी पेट उतारी और अपना लंड अच्छे के छेद से निकाल लटका दिया और मेरे सामने खड़ा हो गया।  

उसका लम्बा लटका लिंग देख मेरा मुँह बंद हो गया और मुझे समझ नहीं आया की अब क्या करू। 

पति – अपना हाथ दो जरा !

पत्नी – नहीं मैं ये नहीं करने वाली। 

उसके लटके लिंग से चिपचिपा पानी पानी टपक रहा था जो मेरी नजरो से हवस था। 

उसने मेरा हाथ पकड़ा और जबरदस्ती अपना लिंग मुझे पकड़ा दिया और कहा ” खड़ा कर इसे ! “

मैं शर्मा और अपनी चुत में ऊँगली करते हुए उसके लटके लिंग को आगे पीछे हिलाने लगी। 

वो मेरे सामने खड़ा मेरी नंगी छाती और चुत में ऊँगली करते हुए मुझे देखता रहा। 

मैं लंड हिलाते हुए ये सोचने लगी की मैं ये सब क्यों कर रही हूँ ?? ये सब करने में मुझे आखिर मजा क्यों आ रहा है ??

इतने में उसका लंड डंडे की तरह खड़ा हो गया और उसका लसलसा लाल गुम्बद लंड की खाल से बाहर आ गया। 

लंड खड़ा होते ही उसने अपने हाथ से अपने गोटे पकड़े और मेरा मुँह खोल कर मुझे चुसवाने लगा। 

चुदाई के लिए वो पूरी तैयार कर के आया था। उसके लिंग पर एक भी बाल नहीं था और उसने वहा की अच्छे से सफाई भी कर राखी थी। 

इसलिए मैं उसका साथ देने लगी और अपने मुँह में उसके अण्डे भर कर हल्का हल्का चूसने लगी और वो तेज तेज चिलाने लगा। 

पति – अहह अहह और !! और चूस !! अह्ह्ह हाहाहाहाहा !!

ऐसी डरावनी आवाज सुनकर मुझे चुदाई के दर्द का डर खाने लगा। 

इतने में मेरी चुत ने सफ़ेद पानी छोड़ दिया। पानी देख मेरे भदे पति के अंदर हवस जगी और वो मेरी गन्दी चुत को चाटने लगा। मैंने न तो वहा के बल हटाए थे न को सफाई की थी और वो मजे से मेरी चुत को खाने लगा और मुझे और ज्यादा कामुक करने लगा। 

चुत चाटने के बाद उसने अपने हाथ पर थूका और अपने लंड को हिलाने लगा। लंड गिला करने के बाद उसने मेरी चुत में डालना चाहा तो मैंने उसे रोक दिया और कहा ” कंडोम नहीं लगाओगे क्या ? “

पति – अरे चल चल मैं ऐसे नहीं करता चुदाई !!

उसने ये बोल कर मेरा हाथ हटाया और मेरी चुत में झटके से अपना खड़ा लंड डाल दिया। 

लंड अंदर जाते ही उसने अपनी कमर हिलना शुरू कर दिया। मेरी योनी अंदर से काफी गर्म और चिकनी थी जिस वजह से लंड अंदर बाहर तेजी से जा सकता था। 

उसने इस बात का फयदा उठाया और मेरी चुत पर जोर से थपेड़े मारने लगा।

मेरे स्तन उछाल कर मेरे ही मुँह पर जोर ले चाटे मारने लगे और वो मेरी कमर पकड़ कर मेरी चुत को चोदने लगा।

पहली बार लंड डालने की वजह से मेरी चुत अंदर से खींचने लगी और मुझे आनंद के साथ पीड़ा भी होने लगी। उसके खड़े लंड के टोपे से मेरी चुत में तेज रगड़ लगने लगी और मैं छिलने लगी रुको रुको रुको !!

पर वो नहीं रुका और किसी मशीन की तरह अपनी कमर हिलाता रहा। 

मैं अपने बड़े बड़े नाखुनो से उसकी बालो से भरी छाती और पीठ को नोचती रही और उसके दिए दर्द से आनंद लेने लगी। 

चुदाई की इतनी जरूरत मुझे आज तक नहीं पड़ी थी जितनी तब पड़ रही थी। अगर वो उस वक्त रुक भी जाता तो मैं अपनी ऊँगली से ही अपने आप को तेजी से चोदने लग जाती। 

चुदाई के जोश में मेरे हाथ खो गए थे और मैं अपने पति को गालिया देने लगी। 

पत्नी – बहन के लोडे चोद मुझे !! दिखा अपनी मर्दानगी !! मुझे और अंदर तक चोद !!

पति – अच्छा ऐसी बात है !!

पत्नी – अहह अहह दल्ले !! मादरचोद तेरी माँ की चुत। चोद मुझे अगर तेरे गोटो में दम है तो। 

पति – साली अहह रंडी अहह ले मेरा टोपा केसा लगा तुझे !! देख तेरी चूचिया कैसे चूस चूस कर लटका दी बहन अह्ह्ह यह !!

पत्नी – उठ हहह हहह ममम अह्ह्ह ममम

चुत – पहच पहच पहच पहच अहह ममम !!

लंड – भट भट भट भट भट भट

गोटिया – फट फट फट फट फट फट

उसके बाद मेरा पति मुझे और चोदने लगा। वो कभी मुझे घोड़ी बना कर चोदा तो कभी कुतिया मना कर। 

उसकी चुदाई से मेरी चुत ने फिर पानी छोड़ दिया और मेरी कामवासना वही शांत हो गई पर वो मुझे चोदता रहा मैं दर्द से चिलाती रही। 

पर उसे तो मेरी गालिया सुनकर जोर दार सेक्स चढ़ गया। 

दोस्तों उस वक्त मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मानो किसी ने मेरी चुत में आग लगा डाली हो। दर्द की उस चुदाई में कुछ देर बाद मुझे पता लगा की मेरे पति की मलाई भी काफी देर पहले ही निकल पर वो मुझे अभी भी चोदे जा रहा था। 

अपनी मर्दानगी साबित करने के लिए वो अपना झड़ने के बाद भी मुझे चोद रहा था। कुछ देर बाद उसका लंड नरम होने लगा और वो तेज चीखे निकालता हुआ हाफने लगा। मेरी चुत से लंड चुत का पानी मिक्स होकर निकलने लगा। मेरी मलाई मेरी और मेरी पति की जांघो पर लग गई। वो बार बार मुझे चोदता हुआ रुका और नीचे से मेरा गन्दा पानी चाट कर फिर मुझे चोदने लगता। साथ ही चोदता हुआ वो मुझे अपने गंदे मुँह से चूमने लगता। उसके मुँह से मेरी चुत और उसके लंड की बू आ रही थी। कामुक होकर मैंने भी अपना होश खो दिया और उसके साथ जबरदस्त देसी चुदाई करती रही। 

जब उसने लंड बाहर निकाला तो मेरी चुत में तेज जलन होने लगी और लंड चुत सा सारा पानी रिस्ता हुआ बाहर आने लगा। और उसका लंड पूरा लाल हो गया और वो दर्द के मारे कुछ देर उसके पकड़ कर मेरे सामने लेता हुआ रोने लगा। 

उसकी गोटिया लाल होकर सूज गई थी क्यों वो बार बार मेरी गांड से टकरा रही थी। साथ ही उसका लिंग ऊपर से लाल और छिला हुआ दिख रहा था। देख के मुझे भी दर्द होने लगा पर उसके रोता देख मैं खुश हो गई। वो लेते लेते रोने लगा। नजाने उसके केसा दर्द हो रहा था।

मौका देख मैंने भी उसके लिंग पर अपना हाथ रखा और उसके हिलने लगी। दर्द से वो पागल मुँह पर चिलता हुआ मुझे पीछे धकेला। मैं हस्ते हुए आगे पड़ी और उसके प्यार से चूमने लगी।

उसके अंदर इतनी हवस थी की वो तब भी तुका नहीं वो मुझे चुने लगा। मौका देख मैंने उसका मुँह खोला और जोर से उसके मुँह के अंदर थूक दिया। वो मुझे देखता हुआ मेरा थूक अपने गले से निगल लिया।


तो दोस्तों इस तरह मेरे पति ने मेरी चुत की चुदाई तो की और साथ ही मैंने उसका लंड भी चोद डाला। मेरी कहानी शादी के पहले दिन ही चुदाई पड़ने के लिए आपका धन्यवाद्। 

मुझे मेल भेज कर जरूर बताये की आपको मेरी चुदाई कहानी किसी लगी। 

आपको कहानी कैसी लगी?
+1
7.2k
+1
616
+1
62
+1
619
+1
2
+1
111
+1
2

Similar Posts

3 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *