| | |

लॉकडाउन में चुदाई की कहानी भाग 3

जैसे जैसे मैं ईशा के थन दबा रहा था वैसे वैसे उसका ब्लाउज अंदर से गीला होता जा रहा था। उसका टाइट ब्लाउज दूध से पूरा गीला हो गया और मेरा उसे चोदने का दिल करने लगा। ऐसी दूधिया औरत के साथ चुदाई का तो कुछ अलग ही मजा होता है। दोस्तों ये मेरी लॉकडाउन में चुदाई की कहानी का तीसरा भाग है अगर अपने पहला और दूसरा नहीं पड़ा तो नीचे  दिए गए लिंक पर जाए। 

लॉक डाउन में चुदाई की कहानी भाग 1

लॉकडाउन में चुदाई की कहानी भाग 2

अब मैं दूध निकालकर काफी कुश हुआ मैंने जल्दी से अपनी पड़ोसन का ब्लाउज खोला और उसके थन बाहर निकाल कर उन्हें दबाने लगा। उसके दूध की धार फर्श पर फैला कर मैंने उसके थन खाली कर दिए। 

उसके बाद मैंने अपने लिंग को निकाला और उसकी कमर पर पीछे से रगड़ने लगा। ईशा को पूरा मजा आ रहा था वो बोली “अहह कितना गर्म है तुम्हारा !!” 

अब देखते ही देखते उसकी चुत भी अंदर ही अंदर गीली होने लगी तो मैंने उसे उठाया और पास पड़े छोटे से स्टूल पर हाथ रखवा कर झुकने को कहा। 

ईशा अपनी गांड बाहर निकाल कर उस छोटे स्टूल के सहारे झुकी और मैं पीछे से उसकी साड़ी और पेटीकोट उठा कर उसकी गांड चूमने लगा। 

ईशा की चुत से पानी टपक रहा था और उसके दोनों थनो से दूध की बुँदे टपक रही थी। 

ऐसी माल दार औरत को मैंने इस तरह पहली बार छुआ था। मेरे हाथ लगाते ही ईशा के अंदर की मादा जाग गई और वो मेरे साथ यौन-क्रिया करने के लिए बेचैन होने लगी। 

कुसी चुत चाटने के बाद मैंने अपने लिंग को नीचे से पकड़ा और वहा से दबा कर पथर सा सख्त कर दिया। 

ऐसा कर के मैंने अपने लिंग की नसे निकाली जिसे देख मेरी पड़ोसन की चुत लम्बी लम्बी अपनी की लार टपकाने लगी। 

मैं अपना गरम लंड लिया और पड़ोसन की मलाईदार चुत के अंदर धीरे धीरे घुसा दिया। 

ईशा की सासे और धड़कने तेज होने लगी और तो मैंने उसे होठो पर चूमना और पूछा ” केसा लग रहा है ?”

ईशा – आज से पहला इतना गीला मुझे कभी कोई नहीं किया !!

उसके बाद मैं हल्का सा मुस्कुराया और ईशा को धीरे धीरे चोदने लगा। 

पीछे से लगने वाले धको के कारण ईशा के थन झूलने लगे और उनका दूध निकलता रहा। देखते ही देखते नीचे का फर्श चुत के रस और थनो के दूध से गीला हो गया। 

ईशा को काफी मजा आ रहा था पर मैं तो उसे जोरदार चोदना चाहता था। ऐसी लालची औरत के साथ चुदाई का मजा ही कुछ और होता है। 

मैं धीरे धीरे ईशा को तेजी से चोदने लगा और उसका शरीर कपकपाने लगा। उसके हाथ स्टूल को सही से पकड़ नहीं पा रहे थे और दोनों थन जोर जोर से आगे पीछे कूद रहे थे और उसकी गांड मेरी कमर के धको से लाल हो रही थी। 

छूट का अंदर से क्या हाल था वो तो अंदर की गर्मी से ही पता लग रहा था। लॉकडाउन में चुदाई का मुझे पूरा मजा आ रहा था। इस तरह चुदाई के बाद मुझे अपनी बीवी पर घिन आने वाली थी। 

मैं पीछे से अपनी पड़ोसन की गांड पर कभी चाटे लगाता तो कभी उसके थन बेरहमी से दबाता। ऐसा करने से मुझे भी मजा आ रहा था और ईशा को भी। 

उसके थन लाल हो गए और गांड के साथ साथ चुत भी। लॉकडाउन में चुत की खुदाई करने में जो मुझे मजा आ रहा था वो मुझे अपनी सुहागरात वाले दिन भी नहीं आया था दोस्तों।

कहानी का अगला भाग पढ़ने के लिए निचे क्लिक करे। 

आपको कहानी कैसी लगी?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
1

Similar Posts