Bhabhi Sex Story | Desi Sex Story | Family Sex Story | First Time Sex Story | Hindi Sex Stories | XXX Stories

देसी औरत की होटल में चुदाई भाग-1

भाभी को बहला फुसलाकर मैं होटल ले गया और कमरा अंदर से बंद कर के उनके जिस्म पर कूद पड़ा। मेरा नाम रंजीत है और मैंने अपने भाई की बीवी को अपनी रंडी बना कर चोदा। मेरी भाभी देसी और अनपढ़ है इसलिए मैं आसानी से उन्हें बहला फुसलाकर चोद पाया। दोस्तों इस सेक्सी कहानी को पढ़ने के बाद आपका भी मन किसी देसी औरत को चोदने का करने लगेगा। इसलिए मेरी कहानी देसी औरत की होटल में चुदाई पूरी पढ़ना।

देखते ही देखते मेरी उम्र 26 साल हो गई और न तो मेरी कोई गर्लफ्रेंड बनी और न ही मैं किसी को चोद पाया। मेरे बड़े भाई की शादी हो गई और घर में नया सदस्य आ गया। मेरे भाई जिस से प्यार करता था उसने उसी से शादी की इस लिए आज वो पचता रहा है। भाभी पूरी अनपढ़ और ग्वार थी इसलिए भाई को उनके साथ कही बाहर जाना पसंद नहीं था। उन्होंने जोश जोश में प्यार प्यार बोल कर शादी तो कर ली पर  चुदाई के बाद फेका पड़ गया। 

कुछ 2 सालो बाद उनका एक बेटा हुआ और बस उसी के बाद से दोनों में अनबन शुरू हो गई। 

पर मुझे भाभी का शरीर काफी पसंद था। उनके मोटे थन और उनसे भी मोटी गांड मुझे काफी पसंद थी। अब चुदाई के लिए किसी का पड़ा लिखा होना जरूर तो होता नहीं। 

भाई दिन रात भाभी से लड़ते रहते और मैं भाभी को कंधा देकर उनका सहारा बनता। देखते ही देखते भाभी और मेरे बीच अच्छी दोस्ती हो गई। 

मैं उन्हें कभी कभी तो बाहर घुमाने भी ले जाता। 

इसी तरह देखते देखते भाभी मुझे अंदर ही अंदर पसंद करने लगी और हम दोनों काफी करीब आ गए। उसके बाद जब मैं भाभी को लेकर बाहर दो दिन के लिए घूमने चला गया। भाभी ने भाई को कहा की मैं  मइके जा रही हूँ और मैंने उन्हें कहा की मैं बाहर घूमने जा रहा हूँ अपने दोस्त के साथ 2 से 3 दिन बाद लौटूंगा। 

उसके बाद मैं भाभी को लेकर बाहर निकल गया। हमने बाहर गोवा जाने का सोचा और वहा पहुंच कर जब हम होटल बुक करने गए तो रिसेप्शन वाली लड़की ने कहा “सर आपको कितने कमरे बुक करने है !”

मैने कहा – दो अलग कमरे करदो !!

तभी भाभी बोल पड़ी “अरे नहीं नहीं हमे एक कमरा चाचिए ! “

उसके बाद मैं मन ही मन कुश हुआ और हम एक कमरे में चले गए। पहले तो हम गोवा खूब घूमे और उसके बाद रात को जब वापस होटल गए तो चुदाई का समय आ गया। 

मैं पूरा दिन भाभी को छोटे कपड़ो में देखा और किसी तरह अपने खड़े लिंग को छुपता रहा पर जब होटल गए तो भाभी ने मेरा लिंग देख लिया। 

कमरे में जाते ही भाभी मुस्कुराने लगी और मैं शर्म से अपने लिंग को बैठाने की नाकाम कोशिश करता रहा।    

उस वक्त मैंने भाभी को हस्ते देखा तो  की अब बात बन सकती है। भाभी मटकते हुए बाथरूम में गई और अपना चेहरा धोने लगी। तभी मैं पीछे से आया और उनके गले लग गया। 

मैंने अपने दोनों हाथो से पहले भाभी की सेक्सी कमर पकड़ी और उसके बाद अपना लिंग उनकी गांड पर चिपकाते हुए कहा “आज का दिन केसा था भाभी जी ?”

भाभी ने प्यार से कहा “बड़ा रोमांटिक था !!”

बस दोस्तों उसके बाद मैं भाभी के दोनों थन ब्लाउज के ऊपर से पकड़ लिए और उनकी गर्दन पर अपने गीली होठों से चूमने लगा।  

भाभी ने अपनी आंखें बंद की और कहा “अहह क्या हम ये सब ठीक कर रहे है या नहीं ?”

मैंने कहा – भाभी जिस चीज़ में मुझे आनंद अत है मुझे वो ठीक लगती है और आप भी ऐसा ही करो। 

तभी भाभी ने मुझे धका दिया और कहा “नहीं हम ये सब गलत कर रहे है मैं नहीं कर सकती !!”

भाभी का कही इरादा न बदल जाएं इसलिए मैं जल्दी से पैंट खोला और अपना खड़ा लिंग बाहर लटका डाला। 

भाभी कमरे के कोने में अपने थन पकड़ कर कड़ी रही और मुझे सही गलत का पाठ पढ़ने लगी। 

पर मैं बेशम्र होकर उनके सामने अपना लिंग जोर जोर से हिलाकर सेक्सी और अश्लील आवाजे निकालता रहा। 

भाभी कभी मेरा मुँह देखती तो कभी मेरे लिंग को। अपनी आँखों के सामने ऐसा नजारा देख उनका मन ललचाने लगा। 

वो धीरे धीरे मेरे पास आई और अपना बालू नीचे गिरा कर अपने थान देखते हुए मेरे होठो को चूमने लगी। 

मुझे होठो पर चूमते हुए उन्होंने मेरे हाथ लिंग पर से हटाया और खुद अपने बड़े बड़े नाखुनो वाले होठो से मेरे लोडा हिलाते लगी। 

उनकी चूडियो की आवाज और नरम होठो की वजह से मेरे लिंग से पानी निकलने लगा। 

जोश में आकर मैंने भाभी के दूध पकड़े और ब्लाउज के ऊपर से ही दबाने लगा।   

और धक्का देते हुए भाभी को बेड पर लेटा दिया। उसके बाद मैं उनका ब्लाउज खोला और उनके स्थन चूमता हुआ भाभी को गीला करने लगा। भाभी पूरी मदहोश हो गई और मैं अपना एक हाथ खिसका कर उनकी साड़ी के अंदर घुसा दिया। 

अंदर घुसा कर उनकी गर्म चुत को सहलाने लगा जो धीरे धीरे पानी छोड़ने लगी और दूसरी तरफ भाभी मेरा लंड धीरे धीरे हिलाती रही। 

हमे एक दूसरे को गन्दी जगह छू कर काफी मजा आ रहा था और इसी तरह हम एक दूसरे के गर्म शरीर को छूते हुए पूरा आनंद लेने लगी। 

भाभी को भी 4 सालो के बाद सेक्स का आनंद मिल रहा था और मैं तो पैदाइशी रंडवा था। 

इसी तरह मजे लेते हुए हम दोनों ने आधी रात निकाल दी। अब उसके बाद की कहानी नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करके पढ़े। 

देसी औरत की होटल में चुदाई भाग-2

Similar Posts