| | | |

छोटी लड़की की चुत की चुदाई

अपनी बड़ी बेटी की शादी करने के बाद जब मेरी छोटी बेटी का नंबर आया तो उसने शादी के लिए इंकार कर दिया। अब घर बैठे बैठे उसकी उम्र बढ़ने लगी। उम्र के साथ साथ वो सेक्सी भी होने लगी। अब क्यों की मेने अपनी छोटी बैठी के साथ सेक्स किया इसलिए मेरी कहानी का नाम छोटी लड़की की चुत की चुदाई है। जिसमे मैंने और मेरी बेटी ने खूब चुदाई की और सेक्स का पूरा आनंद लिया। 

मेरी बड़ी बैठी कुछ सुंदर नहीं दिखती थी उसका रंग कला और चेहरा कुछ सही नहीं था जिस वजह से उसके शादी 29 साल की उम्र में हुई। अब जब तक बड़ी बैठी की शादी न हुई हो तो मैं छोटी की कैसे कर सकता था। 

देखे ही देकते मेरी छोटी बेटी भी 23 की हो गई और मैं चाहता था की उसकी शादी जल्दी हो जाए। पर वो पता नहीं कोनसे सपनो की दुनिया में होती थी। वो शादी के लिए मना कर देती और मुँह फुला कर घर के किसी कोने में बैठ जाती। 

अब जैसे जैसे उसकी उम्र बढ़ रही थी वो सेक्सी भी हो रहित थी। उसके स्तन उसकी मम्मी जितने बड़े बड़े हो गए और गांड भी भरी भरी होने लीग। अब मर्द तो मर्द उसे देख मेरा लिंग भी खड़ा होने लगता और मैं कामुक होकर अपनी बेटी की चुदाई के सपने देखने लगता।   

मेरी बेटी को छोटे कपडे और टाइट जीन्स पहली पसंद थी वो आज की पढ़ी लिखी लड़की थी। उसे अपने स्तनों को कैसे सुंदर रखना है और गांड कैसे मटकानी है सब पता था। 

मैं कभी कभी उसे चुप कर कामुक चुदाई की नजरो से भी देखा करता था और कभी कभी तो मेरी बीबी ने भी मुझे इस तरह अपनी बेटी को देखता पकड़ लिया। 

एक रात जब बेटी देर रात तक घर नहीं आई तो मुझे और उसकी मम्मी को फ़िक्र होने लगी। उसकी मम्मी की तबियत खराब थी तो मैंने उन्हें सोने को कहा पर माँ तो माँ है वो सो ही नही पाई। 

जब छोटी बेटी घर लोटी तो उसके बाल बिखरे हुए थे और उसके मुँह से दारू की हल्की बू भी आ रही थी। ये देख उसकी मम्मी यही मेरी बीबी उसको एक कस कर चाटा लगाई और उसे डाटने लगी। 

पर मेरी नजर तो उसकी सेक्सी छाती पर थी। उसके स्तन उसकी टीशर्ट से आधे बाहर निकल रहे थे और मैं उन्हें देखे जा रहा था। 

लंड हिला हिला कर थक गए? नीचे क्लिक करे !!

Ad

बीबी – कहा गई थी तू और ये क्या हालत है ?? 

कुछ देर की डाट के बाद बीबी ने उसे खाना खाने के लिए कहा पर बेटी ने गुस्से में मना कर दिया। 

मैंने अपनी बीबी को सोने जाने के लिए कहा और उसके कान में बोला खाना मैं खिला दुगा। 

उसके बाद बीबी अपने कमरे में सोने लगी और मैं अपनी बेटी के कमरे में जाकर उसे खाना खिलने लगा। 

बेटी हल्का हल्का नशे में थी इसलिए वो काफी आराम से बिना सोचे अपने कमरे में जाकर गाने सुने लगी। 

मैं अंदर गया और उसे खाना खिलने लगा। 

मैं उसे अपने हाथो से खिला रहा था और मेरी नजर उसकी छाती की दरार पर ही थी। 

तभी बेटी को पता लग गया की मैं उसकी छाती को ताड रहा हूँ। 

उसने मुझे रुकने को कहा और मेरे शामे अपनी टीशर्ट उतार कर कहा ” लो अब देख लो !! ”  

मैं हैरान हो गया और उसके बड़े बड़े सेक्सी जवान दूध देखने लगा। हमारे वट में तो औरते शर्म के मारे मुँह भी नहीं खोलती थी और यहाँ देखो। 

मैंने न मन के साथ उसे कहा ” अंजली !! ये क्या कर रहे है अपने कपड़े पहन !! “

बेटी ने बात मजाक में ली और अपनी ब्रा भी उतार दी और अपने बड़े बड़े स्तन मेरे सामने लटका कर बैठ गई। 

मैं उठा और कमरे को अंदर से बंद कर बेटी के नरम छाती को दोनों हाथो से जकड़ लिया और उनका आनंद लेता रहा। 

बेटी मुझे मुस्कुरा कर देखती रही और मेरे हाथो को अपने जिस्म पर महसूस करती रही। 

स्तन दबा दबा और मैं उसके निप्पल भी चाटने चूसने लगा जिस कारण वो कामुक होने लगी। 

धीरे धीरे उसकी चुत गीली हो गई और उसने अपने होठ आगे बढ़ा और मुझे चूमना शुरू कर दिया। 

मैं बेशर्म की तरह अपनी ही बेटी के साथ अश्लील काम करने लगा। मैं करता भी तो क्या खड़े लंड की मजबूरी थी। 

इस तरह मेरा अपनी छोटी लड़की की चुत की चुदाई करने का सपना सच होने लगा। मैंने अंजली बेटी को प्यार से पकड़ा और उसके गले पर चूमते हुए उसे बिस्तर पर लेता दिया। 

बिस्तर पर लेता कर मैंने उसकी जीन्स का बटन खोला और अंदर हाथ डाल कर अच्छी में उसकी गीली चुत को हल्के हाथ से रगड़ने लगा। 

कामुक होकर बेटी सेक्सी आवाज निकाल कर तेज सासे लेने लगी और मैं उसके हाथो को चुम कर उसकी आवाज और सासे दबाने लगा। 

मेरा एक हाथ उसकी कच्छी में था तो दूसरा उसकी कमरे के नीचे। अंजली मेरी आँखों में देखते हुए धीरे धीरे बोली ” और रगड़ो पापा !! “

और बस चुत रगड़ते रगड़ते मैंने अपना लंड निकला और अंजलि के हाथ में दे दिया। अंजली उसे देखते देखते धीरे धीरे हिलने लगी और कुछ ही देर में मेरा टोपा लाल हो गया और चुत के अंदर जाने के लिए केने लगा। 

मैंने धीरे धीरे बिना आवाज किए अंजली की जीन्स उतरी और उसने लंड को उसकी गीली चुत के अंदर घुसा दिया। लंड अंदर जाते ही अंजली सेक्सी आवाज नकली ओट मैंने उसका मुँह दबोच कर उसे चुप कर दिया। 

उसके बाद मैं धीरे से अपने कूल्हे हिलते हुए अपनी chhoti ladki ki chut ki chudai करने लगा।

बेटी की सेक्सी चुत गीली गीली हो रही थी मैं उसे चोद रहा था। अब उम्र की वजह से मैं तेजी से अपनी कमर हिला नहीं पा रहा था। इसलिए मैं उस वक्त ये सोचें लगा की काश मैं वजन होता तो आज इसकी चुत को जबरदस्त चोदता।

बेटी की चुत अंदर से टाइट थी और मैं उसे चोद कर उसके दोनों दूध बरी बरी से चूस रहा था। 

बेटी बार बार अपनी सुंदर आँखों से मुझे देखती रही और मैं उसके मोठे होठो को चूस कर उसपे लगी लिपस्टिक हटाने लगा। सेक्सी बेटी बार बार मुझे आराम से करने को बोली पर मैंने सनी सुना। 

उसके बाद बेटी ने कहा ” मेरी जुबान चुसो !! “

ये कह कर उसने अपनी अपने मुँह से जुबान बाहर निकली और मैं उसे अपने हाथो में दबा कर चूसने लगा। 

बेटी इतनी सेक्सी थी की मुझे चुदाई करने में कोई शर्म नहीं आ रही थी मैं मजे से अपनी लंड को बेटी की जवान चुत में रगड़ता रहा। मुझे अपनी छोटी लड़की की चुत की चुदाई करने में काफी मजा आ रहा था। मैं धीरे धीरे चुदाई से जोर जोर से चुदाई करने लगा।

चुदाई से पूरा ब्लाँग हिलने लगा और चुदाई की सेक्सी आवाजे आने लगी। 

बेटी तेज सासे लेते हुए पापा पापा चिलाने लगी और मैं बार बार उसे दबोच कर चुप कर देता। 

कुछ देर बार मैंने उसे तिरछा लेटाया और उकसी एक टांग उठा और चुत चोदने लगा। 

बेटी की सेक्सी को लम्बी टांग मैंने अपने सीने से चिपकाई और उसका अंगूठा अपने मुँह में लेकर चुस्त हुआ चोदता रहा। 

बेटी मुझे ऊपर से नीचे तक चुदाई करते देखती रही और मैं उसे चोद चोद कर उसके बड़े बड़े स्तन हिलाता रहा। 

मैंने पूरी कोशिश की की मैं उसके आगे पीछे हिलते स्तनों को न देखु क्यों की मैं उसकी और देर अपनी छोटी लड़की की चुत की चुदाई करना चाहता था।  

पर ऐसा नहीं हो गया मेरी एक नजर क्या गई मेरे लंड से सफ़ेद पानी की धार निकल पड़ी और सीधा उसकी चुत को अंदर से सफ़ेद कर दी। 

मेरे लंड से निकले पानी से बेटी की चुत भर गई और वो तेज सासे लेते लेते लेटी रही। 

मैंने लंड झाड़ने के बाद धीरे से अपना लंड चुत से बाहर निकाला तो देखा वो टमाटर की तरह लाल था। 

चुत भी सूजी सी दिख रही थी और उसके अंदर से मेरा लंड का पानी बहता हुआ बाहर निकल रहा था। 

मैंने जल्दी जल्दी कपड़े पहने और अपनी बेटी को सबसे पहले नहाने के लिए भेजा। 

मुझे लगा की अब से मैं अपनी बेटी की खूब चुदाई करुगा और सेक्स का पूरा मजा लगा पर ऐसा नहीं हुआ। 

अगले दिन उसके कुछ याद नहीं था और वो मुझे अजीब तरीके से देख रही थी। 

अब दारू तो मैंने भी पि है तो मुझे पता है उसके केसा लग रहा होगा। 

कल रात जो भी हुआ उसे वो एक सपना लग रहा था। जिस वजह से मैं उसके साथ दोबारा चुदाई नहीं कर सकता था। 

पर उसे अपनी चुत में जलन जरूर महसूस हो रही थी क्यों की वो सही से चल नहीं पा रही थी। 

मैंने चुपके से उसके खाने में बच्चा रोकने की दवा मिला दी और उसे खिला दिया। 

तो दोस्तों इस तरह मेने अपनी छोटी लड़की की चुत की चुदाई की और उस मोके का जम कर मजा लिया। 

आपको कहानी कैसी लगी?
+1
0
+1
1
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

Similar Posts